DA Image
25 फरवरी, 2020|11:30|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऋण माफी योजना में बड़े किसान भी शामिल

ेन्द्र सरकार ने बजट में घोषित किसानों की ऋण माफी योजना पर अमल के लिए दिशा-निर्देशों को शुक्रवार को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला लिया गया। इस माफी योजना से देशभर में करीब चार करोड़ 28 लाख 75 हजार छोटे, सीमांत और अन्य किसानों को लाभ मिलेगा।ड्ढr ड्ढr कृषि ऋण माफी का दायरा बढ़ान की कांग्रेस नेता राहुल गांधी की मांग भी पूरी हो गई। सरकार न कृषि ऋण छूट स्कीम के तहत बड़े किसानों को भी शामिल कर लिया और कर्ज माफी पैकेज की रकम 20 प्रतिशत बढ़ाकर 71800 करोड़ रुपए कर दी। बजट में वित्त मंत्री पी़ चिदंबरम ने किसानों की कर्ज माफी और रियायत के लिए 60000 करोड़ रुपए का पैकेज देन की घोषणा की थी। संशोधित स्कीम के तहत देश के 237 चिन्हित जिलों के बड़े किसानों सहित सभी किसान शामिल होंगे और उन्हें 20 हजार रुपए तक के बकाया पर 25 प्रतिशत तक ऋण रियायत मिलेगी। वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने बैठक के बाद इसकी जानकारी देते हुए कहा कि सीमांत और छोटे किसानों का दिशा-निर्देशों के दायरे में आने वाला पूरा ऋण माफ होगा जबकि अन्य किसानों को कर्ज चुकाने की एकमुश्त भुगतान योजना के तहत 25 प्रतिशत कर्ज छूट मिलेगी। यह इस बात पर भी निर्भर करेगा कि 75 प्रतिशत बकाया राशि का भुगतान किन शतोर्ं पर किया गया है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने बताया कि एक हेक्टेयर यानी ढाई एकड़ तक की खेती वाले किसान को (सीमांत किसान), एक से लेकर दो हेक्टएर यानी पांच एकड़ तक की खेती करने वाले किसान को (छोटे किसान) की श्रेणी में रखा गया है और इससे अधिक खेती करने वाले किसान को अन्य किसानों की श्रेणी में रखा गया है। ऋण माफी योजना का लाभ जमीन के मालिक, किराएदारी अथवा बटाईदारी पर खेती करने वाले हर तरह के किसान को मिलेगा। चिदंबरम ने बताया कि ऋण माफी योजना में 31 मार्च 1से लेकर 31 मार्च 2007 तक दिए गए सभी तरह के कृषि ऋणों को शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि दस साल की अवधि में लिया गया ऐसा कर्ज जो कि 31 दिसंबर 2007 तक बकाया रहा हो और 2रवरी 2008 तक उसका भुगतान नहीं किया गया। चिदंबरम ने स्पष्ट किया कि ऋण माफी योजना के तहत 31 मार्च 1से पहले दिए गए किसी भी तरह के कर्ज को शामिल नहीं किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कंपनियों, भागीदारी फमोर्ं, सोसायटियों तथा इसी तरह के अन्य संस्थानों को दिया गया कृषि कर्ज माफी योजना के दायरे में नहीं आएगा।ड्ढr ड्ढr चिदंबरम ने बताया कि 2रवरी 2008 के बाद ऋण माफी के दायरे में आने वाले कृषि ऋण पर बैंक अथवा दूसरे ऋण संस्थान अतिरिक्त ब्याज अथवा शुल्क नहीं लगाएंगे। बड़े किसानों के मामले में जिन्हें अपने हिस्से का 75 प्रतिशत कर्ज चुकाना है यदि वे 30 जून 200तक ऐसा नहीं कर पाते हैं और भुगतान में चूक जाते हैं तो फिर बैंक उनसे अगले साल जून के बाद ब्याज वसूल करेगा। चिदंबरम ने बताया कि स्कीम के तहत छोटे एवं सीमांत किसानों को पूर्ण कर्ज माफी मिलेगी जबकि 60 से 65 प्रतिशत बड़े किसानों को भी पूर्ण कर्ज माफी की सुविधा हासिल होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: ऋण माफी योजना में बड़े किसान भी शामिल