अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फूड कंपनियों ने की बच्चों से जुड़े विज्ञापनों से तौबा

एक लंबे समय तक आलोचना का शिकार होते रहने के बाद अमेरिकी फूड कंपनियों ने बच्चों को टार्गेट करने वाले विज्ञापनों से तौबा कर ली है। अमेरिकी फूड उद्योग पर अमेरिकी बच्चों के आकार को बेडौल तथा मोटापे का शिकार बनाने का काफी समय से तोहमत लगता रहा है। स्लैक, बेवेरा तथा बच्चों को लुभाने वाले अन्य उत्पादों के निर्माण तथा उनकी मार्केटिंग से जुड़ी ये कंपनियां अपने तरीकों में सुधार ला रही हैं। दरअसल, इन कंपनियों पर तिहरी मार पड़ रही है। एक को इस वजह से पिछले काफी समय से उनकी पब्लिसिटी काफी खराब रही है, इस बाबत कानून अब काफी सख्त हो गए हैं और तीसरी बात यह कि इनसे होने वाले नुकसान पर मुआवजे की राशि काफी अधिक है। ये कंपनियां फूडस्टफ में इस्तेमाल होने वाले उत्पादों को फिर से फार्म्यूलेट कर रही हैं तथा वस्तुओं में सोडियम की मात्रा कम कर रही हैं सबसे अच्छी बात यह है कि यह बदलाव दुनिया के दूसरे देशों में देखने में आ सकती है।ड्ढr कोका कोला तथा पेप्सीको जसी विश्व की दो सबसे बड़ी बेवेरा कंपनियों ने मंगलवार को घोषणा की कि अमेरिका में लगे बच्चों के विज्ञापनों पर इस प्रकार की बंदिश को इस साल के अंत तक दुनिया के दूसर देशों तक भी पहुंचा सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: फूड कंपनियों ने की बच्चों के विज्ञापनों से तौबा