DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संभवत: पिछली तारीख से गैस मूल्यवृद्धि लागू न करे सरकार

संभवत: पिछली तारीख से गैस मूल्यवृद्धि लागू न करे सरकार

सरकार प्राकृतिक गैस की कीमतों में विलंबित वृद्धि पुरानी तारीख से शायद ही लागू करे। एक अधिकारी ने इसका संकेत देते हुए कहा कि बिजली और सीएनजी उपभोक्ताओं से पिछली तारीख के बिल बढ़ाकर वसूलना मुश्किल होगा।

सी रंगराजन की अगुवाई वाली समिति ने घरेलू स्तर पर उत्पादित सभी प्राकृतिक गैस के लिए जो नया मूल्य फार्मूला सुझाया है, वह 1 अप्रैल से प्रभावी होना था। लेकिन आम चुनाव की वजह से इसमें विलंब हुआ है। संशोधित दरों की घोषणा अभी तक नहीं की गई है क्योंकि नई सरकार इस बारे में अपने स्तर पर विचार कर रही है।

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, प्राकृतिक गैस का इस्तेमाल मुख्य रूप से उर्वरक विनिर्माण, बिजली उत्पादन व सीएनजी उत्पादन के लिए किया जाता है। चूंकि नए मूल्य की घोषणा को अभी तक लागू नहीं किया गया है, फिलहाल गैस पुरानी दर यानी 4.2 डॉलर प्रति एमबीटीयू पर बेची जा रही है।

अधिकारी ने कहा कि इसी दर के हिसाब से किसानों को बेचे जाने वाले यूरिया, घरों को बिजली तथा वाहनों में इस्तेमाल होने वाली सीएनजी की दरों की गणना की जाती है। यदि गैस मूल्यवृद्धि को पुरानी तारीख यानी 1 अप्रैल से लागू किया जाता है, तो उपभोक्ताओं द्वारा पहले से खपत की गई बिजली या सीएनजी के लिए अतिरिक्त शुल्क लेना मुश्किल होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संभवत: पिछली तारीख से गैस मूल्यवृद्धि लागू न करे सरकार