DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नेपाल में नारायणहिती महल प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित

नेपाल में राजा के गद्दी छोड़ने के केवल दो दिन बाद ही सरकार ने राजतंत्र समर्थकों और गणराज्यवादियों के बीच हिंसक संघर्षो को रोकने के लिए सोमवार को महल को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया।नेपाल के गृह मंत्रालय ने कहा है कि नारायणहिती महल के आसपास प्रदर्शनों, बैठक करने और वाहन खड़े करने पर सामेवार से प्रतिबंध लगा दिया गया है। काठमाडू के महाराजगंज इलाके को भी प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया है। ज्ञानेंद्र 2001 में राजा बनने से पूर्व इसी इलाके में स्थित निर्मल निवास में रहते थे। नेपाल में बुधवार को शुरू हो रही संविधान सभा की पहली बैठक को ध्यान में रखकर कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं। बुधवार को औपचारिक रूप से 23साल पुरानी राजशाही के अंत की घोषणा की जाएगी। प्रधानमंत्री के सरकारी निवास बालूवतार और राजधानी के अन्य महत्वपूर्ण स्थानों को भी प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया है। नेपाल में ऐतिहासिक बुधवार को लेकर लोगों के दिलों में अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं। क्योंकि राजा के विश्वासपात्र और पूर्व गृहमंत्री कमल थापा ने चेतावनी दी है कि राजा के समर्थक राजतंत्र के उन्मूलन को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। थापा ने कहा कि बिना जनमत संग्रह के राजतंत्र के उन्मूलन का नतीजा गंभीर हो सकता है। इस कारण सेना या फिर माओवादी शासन पर कब्जा करने में सफल होंगे। एक नेपाली दैनिक से भेंट में थापा ने कहा कि सेना और राजशाही के बीच का भावनात्मक लगाव अचानक टूटने से उत्पन्न खालीपन का परिणाम विनाशकारी होगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नेपाल में नारायणहिती महल प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित