अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

5 जिलों में खुलेंगे नये आइटीआइ

छह जिलों जामताड़ा, गुमला, सिमडेगा, कोडरमा और गढ़वा में नये आटीआइ खुलेंगे। कैबिनेट ने इन्हें खोलने के लिए 220 पदों के सृजन की मंजूरी दे दी है। मंगलवार को कैबिनेट की बैठक के बाद विशेष सचिव बीके सक्सेना ने बताया कि लंबे समय से गैरहाजिर 15 सरकारी डॉक्टरों को नौकरी से बरखास्त किये जाने पर मुहर लग गयी है। इन चिकित्सकों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही चलायी गयी थी, जिसमें आरोप सिद्ध हुआ है। ये हैं-डॉ गंगेश लाल देव, कुमारी रूपा, परवेज आलम, अमरनाथ जायसवाल, उमेश भदानी, खुर्शीद आलम, एनके झा, तालिब इकबाल, अब्दुल कलाम, एके प्रसाद, नरंद्र कुमार आजाद, शकुंतला तिग्गा, रांन कुमार राजन, वेदांतेश्वर सती प्रसाद और डॉ राजन प्रसाद।ड्ढr कैबिनेट ने यूनिवर्सिटी- कॉलेज शिक्षकों की प्रोन्नति के लिए परिनियम पर स्वीकृति दे दी। इसमें सबके लिए प्रोन्नति की अहर्ता तय की गयी है। लेक्चरर छह वर्ष की सेवा के बाद वरीय व्याख्याता हो जायेंगे। जो लेक्चरर एमफिल और पीएचडी होंगे, उनके लिए यह कालावधि क्रमश: पांच और चार वर्ष होगी।ड्ढr विशेष बहुद्देश्यीय फोर्स के गठन पर कैबिनेट ने स्वीकृति दी है। इसमें भारतीय सेना के रिटायर जवान-अफसर को कांट्रैक्ट पर रखा जायेगा। दो बटालियन के लिए 1482 पद का सृजन होगा। यह फोर्स विभिन्न महत्वपूर्ण कार्यालयों की चौकसी करगा। करीब 42 करोड़ रुपये इस बटालियन पर खर्च होंगे। समादेष्टा के पद पर आनेवाले पूर्व सैन्य अधिकारी का वेतन 20 हाार रुपये और सिपाही के पद के लिए 10 हाार का फिक्सड वेतन होगा।वर्ष 1े दंगों में मार गये व्यक्ित या उसमें लापता लोगों के परिानों को 2500 रुपये मासिक पेंशन देने का भी निर्णय लिया गया। एक अप्रैल 2008 से यह पेंशन मिलेगी। पेज 2 भी देंखेनहीं आये राय, जोबा नलिन व चंद्रप्रकाशड्ढr कैबिनेट की बैठक में नगर विकास मंत्री हरिनारायण राय, कल्याण मंत्री जोबा, कृषि मंत्री नलिन सोरन और पेयजल स्वच्छता मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी नहीं आये हैं। नलिन सोरन के बार में बताया गया कि वह हैदराबाद में हैं। चंद्रप्रकाश चौधरी देश से कहीं बाहर हैं। लेकिन हरिनारायण राय और जोबा मांझी के नहीं आने के पीछे उनकी नाराजगी बतायी जाती है।ड्ढr मंत्री हरिनारायण राय अपने क्षेत्र के कार्यक्रमों में व्यस्त हैं। उनके करीबी लोगों के मुताबिक एके पांडेय का आरइओ सचिव के पद से तबादले से मंत्री काफी नाराज हैं। सीएम की ओर से पिछले दिन बुलायी गयी बैठक में भी वह नहीं गये थे। जोबा मांझी भी नाराज चल रही हैं। उनकी नाराजगी का कारण आवास बोर्ड के एमडी अब्राहम रौना का तबादला बताया जा रहा है। रौना को पिछले दिन राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग में भेज दिया गया है। उनकी जगह पीए संगमा को आवास बोर्ड के एमडी का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। जोबा इसी मामले को लेकर खफा हैं। हालांकि जोबा ने संपर्क करने पर कहा कि वह किसी से नाराज नहीं हैं। क्षेत्र में व्यस्त होने के कारण कैबिनेट की बैठक में नहीं आ सकीं।ड्ढr भड़के बंधु तिर्कीड्ढr कैबिनेट बैठक में शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ने नरगा की स्थिति पर प्रतिकूल टिप्पणियां की। कहा कि इसमें एकदम ठीक से काम नहीं हो रहा है। इससे सरकार की बदनामी भी हो रही है। उन्होंने आवासीय विद्यालयों की स्थिति को भी उपयुक्त नहीं बताया। उनका कहना था कि केवल खर्च से कुछ नहीं होता, उसका आउटपुट भी दिखना चाहिए। शिक्षक नियुक्ित नियमावली के शीघ्र कैबिनेट से पास नहीं होने पर भी बंधु तिर्की ने चिंता जाहिर की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 5 जिलों में खुलेंगे नये आइटीआइ