DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंसाफ के हाथ

अपराधी कितना ही शातिर क्यों न हो, उसका कानून के लम्बे हाथों से बच पाना कठिन होता है। छह बरस पहले हुई नीतीश कटारा की हत्या के लिए अदालत ने प्रभावशाली राजनीतिज्ञ डीपी यादव के बेटे विकास और भांजे विशाल को दोषी करार दे दिया है। लम्बे कानूनी दाव-पेंच के बाद आए इस फैसले से मृतक नीतीश की मां नीलम कटारा को निश्चय ही यह संतोष मिलेगा कि उन्होंने अपने बेटे के कातिलों को बचकर नहीं जाने दिया। गाजियाबाद के यादव परिवार की पृष्ठभूमि जानने वालों को शुरू में विश्वास ही नहीं होता था कि नीलम कटारा जो जंग लड़ रही हैं, उसमें उनकी जीत होगी। मुकदमे के दौरान अनेक बार परिस्थितियां इतनी विकट दिखीं, जिससे लगा कि न्याय मिलना कठिन है। मामला गाजियाबाद की अदालत में शुरू हुआ, जिसे उच्चतम न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद दिल्ली स्थानांतरित किया गया। फिर मुकदमे की एक मुख्य गवाह और अपराधी विकास की बहन तीन साल तक अदालत आने में आनाकानी करती रही। फैसला सुनाए जाने से ठीक पहले मुख्य गवाह अजय कटारा के कथित स्टिंग ऑपरशन की सीडी सामने आई। इस पूरी अड़ंगेबाजी का उद्देश्य एक ही था कि किसी तरह अभियोजन पक्ष का मनोबल कमजोर किया जाए और फैसला टाला जाए। न्याय के मंदिर में देर भले ही हो, अंधेर नहीं है। अब अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने अभियुक्त बंधुओं के जेल में चक्की पीसने का बंदोबस्त कर दिया है। जेसिका लाल हत्याकांड में भी विकास यादव अपराधी घोषित किया जा चुका है और वह फिलहाल जेल में सजा काट रहा है। अब नीतीश कटारा का हत्यारा ठहराए जाने के बाद तो यह लगने लगा है कि वह एक शातिर अपराधी है जिसका खुला घूमना समाज के लिए खतरा है। अदालत के निर्णय से आतंक के साम्राज्य पर गहरी चोट पड़ी है। अब ऊँची पहुँच वाले अपराधियों की सोने की लंका का बच पाना कठिन है। यह दुर्भाग्य की बात है कि चाल, चरित्र और चेहरा साफ होने का दावा करने वाली पार्टियाँ भी ऐसे अपराधियों को शरण देती हैं। राजनैतिक वरदहस्त से भी अपराधियों का हौंसला बढ़ता है। दबंगों को टक्क र देने के लिए अटूट हौंसला भी चाहिए, जो नीलम कटारा में है। बेटा खोने के बावजूद उन्होंने अन्याय का जमकर प्रतिकार किया और अपराधियों को बेनकाब करके ही दम लिया। एसा मनोबल सब में आ जाए तो आतंक का कारोबार बंद हो जाएगा।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इंसाफ के हाथ