अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अल्पसंख्यकों ने गांव छोड़ा

थाना अंतर्गत परसातरी गांव के एक अल्पसंख्यक युवक द्वारा गौ मांस ले जाने पर नक्सली संगठन पीएलएफआइ के लोंगों ने उसकी जमकर पिटाई की तथा गांव खाली करन की चेतावनी भी दी। संगठन की चेतावनी के बाद परसातरी गांव में रहने वाले 12 अल्पसंख्यक परिवार गांव छोड॥कर अन्यत्र रहने लगे हैं। जानकारी के अनुसार शुक्रवार 23 मई को परसातरी गांव के एक मुस्लिम समुदाय का व्यक्ित सनाउल अंसारी चान्हो बाजार से अपने घर लौट रहा था। चान्हो थाना क्षेत्र के चारा गांव के समीप हथियारबंद पीएलएफआइ के दस्ते ने उसे रोका तथा उसके सामान की तलाशी ली। उसके पास मौजूद झोले में गौ मांस होने के बाद दस्ते के लोगों ने सनाउल की जमकर पिटाई की तथा उसे चेतावनी भी दी कि गांव में रहने वाले सभी मुस्लिम समुदाय के लोगों को गौ-मांस खाने से रोकना होगा। घायल अवस्था में सनाउल परसातरी स्थित अपने आवास पहुंचा और बात की पूरी जानकारी गांव में रहने वाले अपने समुदाय के लोगों को दी। घटना की जानकारी के बाद गांव में रहने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के बीच भय का माहौल पैदा हो गया। घायल को अस्पताल पहुंचान के बाद रातों रात उक्त समुदाय के सभी लोगों ने गांव खाली कर दिया। जानकारी के अनुसार गांव में रहने वाले सभी अल्पसंख्यक परिवार वर्तमान में अपने रिश्तेदारों के यहां शरण लिये हुए हैं जिससे पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है और उनके मवेशी लावारिस बने हुए हैं। दहशत के बीच भुक्तभोगियों द्वारा इसकी सूचना खलारी थाना को भी नहीं दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अल्पसंख्यकों ने गांव छोड़ा