अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी तंत्र की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए नीतीश ने

सरकारी भोंपू की भूमिका निभाने वाला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग (पीआरडी) अब विकास योजनाओं की गुणवत्ता और इससे जुड़े अफसरों-ठेकेदारों पर भी नजर रखेगा। इससे सरकार को पल-पल की सूचना रहेगी कि कहां क्या चल रहा है? बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रंसिंग के जरिये 1, अणे मार्ग से जहानाबाद, नालन्दा, बेतिया, मुंगेर, सीतामढ़ी और कटिहार में सूचना भवनों का शिलान्यास किया। उन्होंने सरकारी तंत्र की कार्यशैली पर यह कहते हुए सवाल खड़े कर दिये कि आरोपी अधिकारी अपने खिलाफ शिकायतों की जांच खुद करगा तो न्याय कैसे होगा? इसलिए आरोपी से एक स्तर ऊपर का अधिकारी ही आरोपों की जांच करगा।ड्ढr ड्ढr मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर हम संवेदनशील प्रशासन देना चाहते हैं तो हमारी संवेदना हरपल प्रकट होनी चाहिए। जनता दरबार में मिलने वाली शिकायतों को संबंधित जिले में भेजा जाता है। अब जिलों में योजनाओं और कार्यक्रमों के हाल पर पीआरडी प्रतिदिन मुख्यमंत्री सचिवालय को रिपोर्ट करगा। इसकी एक कॉपी संबंधित डीएम को दी जायेगी। यह नहीं चलेगा कि आरोपी के खिलाफ शिकायत का पत्र कार्रवाई के लिए उसी को मिल जाए।ड्ढr उन्होंने कहा कि पिछले ढाई साल में बिहारवासियों के मन से ‘यहां कुछ नहीं होगा’ जैसी भावना गायब हो गयी है। अब लोग यहां सड़क बनते देख रहे हैं। गांवों के अस्पताल में डाक्टर दिखते हैं। राहत बंटता है लेकिन इतने से काम पूरा नहीं हो जाता। पीआरडी को टास्क है कि वह पल-पल मुझ तक जिलों में सड़क निर्माण, अस्पताल में डाक्टर की मौजूदगी, दवा-साइकिल-पोशाक-राहत वितरण से लेकर राशन प्रणाली, पल्स पोलियो अभियान और आंगनबाड़ी केन्द्रों के संबंध में जनता का फीडबैक पहुंचाए। पीआरडी मंत्री रामनाथ ठाकुर ने बताया कि 21 जिलों में कम्प्यूटर और वीडियो कॉन्फ्रंसिंग कक्ष समेत अत्याधुनिक सुविधाओं वाला दो मंजिला सूचना भवन इसी वित्तीय वर्ष में बन जायेगा। यहां की लाइब्ररी में सोलर लाइट की व्यवस्था रहेगी। लीजिए पर्दा तो पहले ही हट गया है..ड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। जहानाबाद का माइक ऑन किया जाए। आदेश के साथ ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आवासीय कार्यालय कक्ष की दीवार पर टंगे प्लाज्मा टीवी पर जहानाबाद के डीएम की तस्वीर उभरी। प्रणाम सर! मैं जहानाबाद का कलेक्टर। जवाब में मुख्यमंत्री बोले- लीजिए पर्दा तो पहले ही हट गया है। अब निर्माण भी समय पर करा दीजिए। दरअसल डीएम ने सीएम के हिस्से वाला काम भी खुद कर दिया था। मुंगेर में भी शिलापट्ट का पर्दा हटा देखकर मुख्यमंत्री बोले- चलिए ठीक है। नेक्स्ट।ड्ढr सूचना भवनों के निर्माण को लेकर अपनी चिन्ता जाहिर करते हुए श्री कुमार पीआरडी मंत्री रामनाथ ठाकुर से बोले- शिलान्यास तो हमसे करा लिया लेकिन मुझे अधिक खुशी तब होगी जब समय पर उद्घाटन भी हो जाए। भले ही वह काम आप खुद कर लीजिएगा। मुख्यमंत्री सबसे पहले पश्चिम चम्पारण के डीएम से बोले- हां! तो पर्दा हटाइए। शिलान्यास हो गया। जो कहना था हम बोल चुके हैं। आपने सुना ही होगा। काम समय पर पूरा होना चाहिए। बारी आयी नालन्दा की तो उन्होंने डीएम से पूछा- कहां बन रहा है सूचना भवन। जवाब मिला- कलेक्ट्रेट के ठीक पीछे।ड्ढr इस पर मुख्यमंत्री अपने विशेष सचिव चंचल कुमार से बोले- जेल वाली जगह खाली हो गयी है। कटिहार में भी शिलान्यास ठीक-ठाक हुआ लेकिन परशान किया सीतामढ़ी ने। बार-बार कोशिश पर भी लिंक फेल। और जब डीएम ऑन तो लाइट गॉन। काफी मशक्कत के बाद संपर्क हुआ तो मुख्यमंत्री बोल पड़े- देर आए पर दुरुस्त आए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सरकारी तंत्र की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए नीतीश ने