अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूली क्रिकेटरों पर भी बरसेगा बीसीसीआई का धन

ूली क्रिकेटरों के लिए खुशखबरी! अगर पर्याप्त टैलेंट है तो अरबपति भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड अब आपकी जेब भी गरम करेगा। बीसीसीआई अक्तूबर में पहला ऑल इंडिया स्कूल टूर्नामेंट आयोजित कर रहा है। इस टूर्नामेंट से खिलाड़ियों के अभिभावकों की जेब पर पड़ने वाला बोझ लगभग खत्म हो जाएगा, क्योंकि मैच फीस और डीए के रूप में स्कूली क्रिकेटरों को पर्याप्त पैसा मिल जाएगा।ड्ढr ड्ढr सूत्रों के अनुसार 50 ओवर के इस टूर्नामेंट को बोर्ड ने अपने नए घरलू कैलेंडर में शामिल भी कर लिया है। अंडर-16 वर्ग के इस पहले अन्तर राज्यीय स्कूल टूर्नामेंट के वन डे लीग मुकाबले पाँचों जोन में एक अक्तूबर से 20 नवम्बर तक खेले जाएँगे, जबकि नॉक आउट मुकाबले अगले वर्ष 20 से 27 जनवरी तक होंगे। बोर्ड ने इस वर्ष से अंडर-15 और अंडर-17 टूर्नामेंट खत्म करके उसके स्थान पर अंडर-16 विजय मर्चेन्ट ट्रॉफी टूर्नामेंट ही करवाने का निर्णय लिया था। लेकिन अब पॉली उमरीगर ट्रॉफी के साथ बोर्ड ने न सिर्फ स्कूलों से सीधा सम्पर्क बना लिया है, बल्कि एक टूर्नामेंट के कम होने की भरपाई भी कर दी है। लीग आधार पर होने वाली इस एक दिवसीय प्रतियोगिता में हर जोन से शीर्ष दो टीमें नॉक आउट दौर के लिए क्वालिफाई करंगी, जबकि राष्ट्रीय चैम्पियन टीम को पॉली उमरीगर ट्रॉफी से सम्मानित किया जाएगा। इस टूर्नामेंट को शुरू करने के पीछे बोर्ड का उद्देश्य अपने खिलाड़ियों को तकनीकी रूप से और मजबूत करने का हैं। स्कूल टूर्नामेंट से उन खिलाड़ियों को भी फायदा मिलेगा, जो अच्छी प्रतिभा के बावजूद प्रतिस्पर्धा न मिल पाने के कारण खेल की मुख्य धारा में जुड़ने से पहले ही खो जाते हैं। पहले ऑल इंडिया स्कूल टूर्नामेंट में कुल 65 मुकाबले होंगे। इनमें 56 लीग मैच होंगे, जबकि नौ नॉकआउट मुकाबले खेले जाएँगे। फिलहाल यह तय नहीं हुआ है कि यह मुकाबले कहाँ-कहाँ होंगे लेकिन माना जा रहा है कि टूर एवं फिक्सचर कमेटी जब अगली बार बैठेगी, तो स्थानों का फैसला भी हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्कूली क्रिकेटरों पर भी बरसेगा बीसीसीआई का धन