DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

भाव टाइट, अंदर आना मना है..ड्ढr बंपर ट्रांसफर और डिस्काउंट भी नहीं। बरसात में बाजार भारी सेल से गुजरता है, लेकिन यहां का भाव एकदम टाइट है बाबा। धड़ाधड़ लिस्ट निकल रही है। कहीं पांच दर्जन, कहीं सौ पार। लाल बत्ती वाले हुक्मरान अपने सरकारी बंगले से बाहर नहीं निकल रहे। बंगले में भी चैंबर है। लाल बत्ती जलती है, तो समझ जाइये अंदर आना मना है। अंदर कोई और है। वही अपना प्राइवेट सेकरटरी। सारा हिसाब उसी के पास है। फिर काट-पिट के लिए नाम कौन बतायेगा। अब कोई यह न पूछे कि कितना का कारोबार हुआ है। हुक्मरान खुश तो समझिये शर्तिया इलाज होगा। डाक में चढ़े, तो सितारा बुलंदी पर रहेगा, वरना पता नहीं केतना साल शंटिग काटिये। कोई नहीं पूछेगा-ाानेगा कि केतना काबिल हैं। ऐसन केतना अफसर-इंजीनियर मुंह लटकइले बैठल हैं। पर कइयों के घर-आंगन में खुशियां हैं : मनचाही पोस्टिंग जो मिली है। दो लगाओ, छह-आठ पाओ। इसके लिए आज से शुरू हो जाओ। ई जो अपना ‘सेकरटियेट’ है, यहां भी चहल-पहल है। बाबू बख्शीशे में फीट हैं। हुाूर का कुछ क्लाइंट पार लग गया। सो चकाचक। अब ये जो हुाूर हैं हुक्मरान की मुराद पूरी करने में तनियो असकत नहीं करते, तो इनकी नाव भी पार लग जाती है। बांट-बूंट कर खाने में सबका भला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग