अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजरंग

सरकारी विभागों में हेराफेरी करनेवालों के लिए खुशखबरी है। गाड़ी-घोड़ा विभाग ने उन्हें थोड़ी रियात दी है। विभाग ने अपने रिस्क पर दलाली करने का ऑफर दिया है। विभाग के प्रवेश द्वार पर दो सूचनाएं टंगी हैं, पहली यह कि दलाल यहां अपने रिस्क पर धंधा करं। और दूसरी यह कि यहां दलालों को पीटने की छूट रहेगी। नोटिस पढ़कर धंधेबाजों ने कैबिनेट बुलायी। इस संवेदनशील मुद्दे पर गहन मंथन हुआ। सबने यही तय किया, अपने रिस्क पर ही सही धंधे को और गति दी जायेगी। रही बात पीटने-पिटाने की, तो यहां आनेवाले वैसे ही वक्त से इतने पिट चुके होते हैं कि किसी को पीटने की नहीं सोच सकते। उन्हें तो बस यही रहता है, जसे भी हो काम हो जाये। और बिना धंधेबाजों की मदद के काम तो होने से रहा। और सबसे अच्छी बात यह है कि अब विभाग यह नहीं कह सकता कि यहां धंधा करना मना है। भाई, हम अपने रिस्क पर कर रहे हैं। फिर हमार धंधे के साथ कई और लोगों की रोी-रोटी भी तो जुड़ी है। हमारी ही मेहनत से बाबू लोग चार चक्के पर घूमते हैं। मैडम के गले में नौलखा चमकता है। बाल-बच्चे ऐश-मौज करते हैं। वैसे खबर मिली है कि धंधा करनेवाले इतना साहसी निर्णय लेने के लिए विभाग के अधिकारियों का नागरिक अभिनंदन करने का मन बना रहे हैं। ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजरंग