DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएचयू में सीखा ककहरा, अब लोकसभा में जमाएंगे रंग

बीएचयू में राजनीति का ककहरा सीखनेवाले छह छात्रों को इस बार सोलहवीं लोकसभा में जाने का मौका मिला है। पूर्व छात्रों की इस उपलब्धि पर विश्वविद्यालय परिवार खुश है।

छात्रसंघ के ही पूर्व अध्यक्ष भरत सिंह बलिया से सांसद निर्वाचित हुए हैं। वह पहली बार लोकसभा के सदस्य बने हैं। इससे पहले वह बलिया से विधायक और मंत्री रह चुके हैं। वह 1978 में छात्रसंघ के अध्यक्ष थे। छात्रसंघ के ही पूर्व अध्यक्ष मनोज सिन्हा इस बार गाजीपुर से सांसद चुने गए हैं। उन्हें दूसरी बार गाजीपुर से संसद में जाने का मौका मिला। मनोज सिन्हा बीएचयू आईआईटी के छात्र रहे हैं। वह 1983 में बीएचयू छात्रसंघ के अध्यक्ष बने। इसके अलावा बीएचयू छात्रसंघ के महामंत्री रहे डॉ. महेन्द्रनाथ पांडेय चंदौली लोकसभा सीट से निर्वाचित हुए हैं। डॉ. पांडेय सैदपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक और प्रदेश में मंत्री रह चुके हैं। पांडेय 1977 में छात्रसंघ के महामंत्री थे। बीएचयू में ही छात्र राजनीति में लम्बे समय तक सक्रिय रहे वीरेन्द्र सिंह भी भदोही से सांसद चुने गए है। वीरेन्द्र सिंह को दूसरी बार संसद में जाने का अवसर प्राप्त हुआ है। बीएचयू नगर निकाय के पदाधिकारी रहे और भोजपुरी फिल्मों के अभिनेता और गायक मनोज तिवारी नार्थ-ईस्ट दिल्ली संसदीय क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुने गए हैं। पूर्व छात्र रहे गिरिराज सिंह बिहार के नेवादा संसदीय क्षेत्र से सांसद निर्वाचित हुए हैं। ये सभी भाजपा के टिकट पर चुने गए हैं।

कुछ को असफलता भी हाथ लगी हैं। बीएचयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और जेएनयू के प्रोफेसर आनंद कुमार नार्थ-ईस्ट दिल्ली संसदीय क्षेत्र आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़े थे लेकिन उन्हें पराजय का मुंह देखना पड़ा। जानकारों का कहना है कि कई वर्ष बाद यह मौका आया है जब बीएचयू के पूर्व छात्रों ने एक साथ संसद में अपनी जगह बनाई हो। हालांकि, जानकार यह बताते हैं कि दूसरी और तीसरी लोकसभा में बीएचयू के कई छात्रों को लोकसभा में जाने का मौका मिला था। इनमें जगजीवनराम, राजनारायण जैसे दिग्गज शामिल थे।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीएचयू में सीखा ककहरा, अब लोकसभा में जमाएंगे रंग