DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

84 के सिख दंगे सोची समझी साजिश : करनैल

ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरशन के अध्यक्ष सरदार करनैल सिंह ने कहा है कि वर्ष 84 के दंगे सोची समझी साजिश के तहत करायी गयी थी। लेकिन इस दंगे की जांच के काम को दबाया गया है, जिसके कारण दंगे में मार गये लोगों के परिानों को इंसाफ नहीं मिल पाया है। फेडरशन इसके खिलाफ लगातार लड़ाई लड़ रहा है। इसके लिए फेडरशन पूर देश में इंसाफ जागृति यात्रा कर रहा है, जिसमें नये सिर से सभी मामलों के बार में जानकारियां इकट्ठी की जा रही है। जो लोग दोषी हैं, उनके खिलाफ साक्ष्य जुटाये जा रहे हैं, जिससे लोगों को इंसाफ मिल सके। करनैल सिंह झारखंड में यात्रा पर हैं और इसी दौरान उन्होंने पत्रकारों को इसकी जानकारी दी। होटल राजधानी में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि सिखों ने अपनी जान देकर देश की रक्षा की है। लेकिन कुछ लोग समाज को बांटकर अपनी राजनीति करना चाहते हैं। फेडरशन इसे कतई नहीं होने देगा। उन्होंने कहा कि जगदीश टाइटलर और सज्जन कु मार को सीबीआइ ने क्लीन चिट दे तो जरूर दे दी है, लेकिन सिख समाज इससे संतुष्ट नहीं है। कई ऐसे आइ विटनेस हैं, जिन्होंने उन्हें दंगे भड़काते देखा था। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के कई चेहरे भी हैं, जिन्होंने सिख दंगों को आग दी थी। फेडरशन देश भर में घूम-घूमकर इस प्रकार के लोगों के खिलाफ साक्ष्य जुटा रहा है। यात्रा के शामिल लोग झारखंड के विभिन्न शहरों में जायेंगे और पीड़ित परिवार से मिलेंगे। इस अवसर पर सरदार गुरविंदर सिंह सेठी, जमशेदपुर से आये सतनाम सिंह गंभीर, प्रो हरमिंदर वीर सिंह, परमजीत सिंह चाना सहित कई सदस्य उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 84 के सिख दंगे सोची समझी साजिश : करनैल