अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहर में जर्जर सरकारी मकान गिराए जाएंगे

राजधानी के जर्जर सरकारी मकानों और क्वार्टरों को गिराकर अधिक क्षमता वाले नये मकान बनाए जायेंगे। विधानमंडल के संयुक्त सत्र के लिए भी एक नया भवन बनेगा। सरकारी कार्यालयों और आवासीय क्षेत्रों की खाली जमीन के बेहतरीन उपयोग के लिए नया टाउन प्लान बन रहा है। गुरुवार को करण ग्रोवर एण्ड एसोसिएट्स ने मुख्य सचिवालय सभागार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राज्य प्रशासन के शीर्ष अधिकारियों के समक्ष इस योजना का पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन दिया।ड्ढr ड्ढr सुझावों की उपयोगिता की परख के लिए एक टास्क फोर्स बनेगी। अगर योजना अमल के लायक हुई तो 1, अणे मार्ग से लेकर सचिवालय और विधानमंडल परिसर ही नहीं राजवंशी नगर और गर्दनीबाग के सरकारी क्वार्टरों का भी नक्शा बदल जायेगा। सूत्रों के अनुसार कंपनी ने सचिवालय, विधानमंडल और म्यूजियम परिसर की सेटेलाइट और हेलीकॉप्टर से ली गयी तस्वीरों के माध्यम से खाली जमीन पर नये भवन-पार्क बनाने और भवनों के जीर्णोद्धार की योजना पेश की। इसमें वीवीआईपी आवासों के लम्बे-चौड़े लॉन का भी विभिन्न कार्यो में उपयोग का प्रस्ताव है। आबादी के बोझ और सरकारी-व्यापारिक गतिविधियों में बढ़ोतरी के लिहाज से शहर में उपलब्ध जमीन के बेहतरीन उपयोग के अलावा कोई विकल्प की नहीं है। मुख्यमंत्री तो 1, अणे मार्ग की जमीन का एक-एक हिस्सा औषधीय पौधों की खेती और एनेक्सी के लिए देकर अपना इरादा पहले ही जता चुके हैं।ड्ढr ड्ढr सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने भवन निर्माण विभाग, नगर विकास विभाग, मानव संसाधन विकास विभाग और वन एवं पर्यावरण विभाग समेत दूसर संबद्ध विभागों का टास्क फोर्स बनाने का निर्देश दिया जो मीठापुर ‘एजुकेशनल जोन’ में छात्रों के लिए इंडोर स्टेडियम और पार्क बनाने का सुझाव देगा। कंपनी ने राजवंशी नगर और गर्दनीबाग की सरकारी जमीन और वहां के जर्जर क्वार्टरों के स्थान पर नये कतारबद्ध फ्लैट बनाने का सुझाव दिया है ताकि अधिकाधिक कर्मियों को आवास मिले।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शहर में जर्जर सरकारी मकान गिराए जाएंगे