अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरुषि हत्याकचचांड पर सियासत तेज

आरुषि-हेमराज हत्याकांड की जांच को लेकर अब राजनीति शुरू हो गई है। यूपी की मुख्यमंत्री मायावती ने सच्चाई का पता लगाने के लिए इसे सीबीआई को सौंप दिया है। मजेदार यह है कि मायावती ने इस तरह की सिफारिश के संकेत जसे ही दिए, केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने इसे अनावश्यक बता दिया। इस हत्याकांड में पुलिस ने आरुषि के पिता डॉ. राजेश तलवार को परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर गिरफ्तार कर रखा है। मायावती ने गुरुवार को लखनऊ में इस मामले को सीबीआई को सौंपने के निर्णय की घोषणा की और शाम तक इसकी सिफारिश भी कर दी। दिन में एक प्रेस कांफ्रेन्स में उन्होंने आरुषि को लेकर कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप भी लगाया।ड्ढr ड्ढr मायावती का दावा है कि कांग्रेस की (संवेदना में) इस हत्याकांड से प्रभावित परिवार के प्रति सहानुभूति कम और राजनीति पर ज्यादा है। मायावती के कथन पर कांग्रेस और महिला एवं बाल कल्याण मंत्री श्रीमती रणुका चौधरी की तीखी प्रतिक्रिया हुई। चौधरी ने कहा कि आरुषि मामले में वे एक मां के रूप में प्रतिक्रिया व्यक्त कर रही थीं। उन्होंने कहा कि वे चाहती हैं कि मायावती भी इसी नजरिये से इसे महसूस करं। उधर, श्रीप्रकाश जायसवाल ने गुरुवार को दिन में ही कहा कि जब उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स इस मामले की जांच कर रही है तो फिर सीबीआई जांच की जरूरत ही नहीं है। गृह राज्य मंत्री का यह कथन थोड़ा विस्मित करने वाला है क्योंकि सीबीआई गृह मंत्रालय के अधीन नहीं है और उसका सीधा सम्बंध कार्मिक मंत्रालय से है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आरुषि हत्याकचचांड पर सियासत तेज