DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अखिल कुमार ने अपनी वापसी का श्रेय कोचों को दिया

अखिल कुमार ने अपनी वापसी का श्रेय कोचों को दिया

करीब दो साल से चोटों की समस्या से जूझने के बाद वापसी करने वाले 2006 राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदकधारी मुक्केबाज अखिल कुमार ने कहा कि उनके कोचों और सहयोगी स्टाफ ने रिहैबिलिटेशन की धीमी और दर्दनाक प्रक्रिया से उबरने में मदद की।

अखिल को इस साल जुलाई-अगस्त में ग्लास्गो में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों की 42 सदस्यीय संभावितों की टीम में चुना गया है। सात मुक्केबाजों की अंतिम टीम 21 और 23 मई के बीच पटियाला में ट्रायल्स के एक और राउंड के बाद चुनी जाएगी। 33 वर्षीय ने बैंथमवेट वर्ग में अपना नाम बनाया था, लेकिन अब वह 60 किग्रा में शिरकत करेंगे और ग्लास्गो के लिए अंतिम टीम में जगह बनाने की उम्मीद लगाए हैं।

अखिल ने कहा कि सच कहूं तो यह काफी मुश्किल था। ओलंपिक से चूकने से मेरे ऊपर काफी नकारात्मक प्रभाव पड़ा था। लेकिन फिर भी जिंदगी आगे बढ़ने का नाम है और लड़ने का नाम है। मैं काफी भाग्यशाली रहा कि मेरे इर्द गिर्द काफी सकारात्मक लोग रहे और उन्होंने मुझे पहले से ज्यादा मेहनत करने में मदद की। उन्होंने कहा कि मेरे कोचों को शुक्रिया। मुख्य कोच जीएस संधू और क्यूबाई कोच बीआई फर्नांडीज ने मेरी काबिलियत पर काफी भरोसा जताया और मेरा समर्थन किया, जिससे मुझे अपनी सीमाओं से ज्यादा आगे बढ़ने में मदद मिली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अखिल कुमार ने अपनी वापसी का श्रेय कोचों को दिया