DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्री चैतन्या के छात्रों का बेहतरीन प्रदर्शन

आइआइटी की परीक्षा में श्री चैतन्या कोचिंग संस्थान के छात्रों का उत्कृष्ट प्रदर्शन रहा। रांची सेंटर से कुल 354 छात्रों ने परीक्षा दी थी। जिसमें 31 छात्र सफल रहे।ड्ढr एसटी श्रेणी में डीएवी नंदराज बरियातू के पवन तिग्गा को 52 वां स्थान मिला। बोकारो डीपीएस के छात्र मो माज ने पूर देश में 114 वां स्थान हासिल किया है। डीएवी श्यामली के मृणाल कुमार को 152 वां, डीएवी अग्रसेन रामगढ़ के जॉनसन फ्रेंक गुड़िया को 28एससी में सुधांशु चौधरी को 181 वां, डीपीएस के सुदीप्तो मांझा को 306वां, संतोष कुमार को 448वां, चुड़ामणि प्रसाद को 1वां, अजित कुमार सिंह को 3181, अंशुमन भुजबल को 3573, तेजस्वी गौरव को 5216, गौरव मोता को 5730, निखिल ओझा को 5887, देवेंद्र कुमार को 502 और गौहर दानिश को 6516 वां स्थान मिला है।ड्ढr संस्थान के इंचार्ज श्री विद्यानिवास ने बताया कि पिछले वर्ष 2छात्र सफल हुए थे। इस वर्ष 31 छात्रों ने सफलता अर्जित की है। ऑल इंडिया लेवल पर भी संस्थान का रिाल्ट बेहतर रहा है। संस्थान के कुल छात्रों से सफलता हासिल की है।ड्ढr देश सेवा लक्ष्य : अतुलड्ढr कैंब्रियन पब्लिक स्कूल के छात्र अतुल आनंद को आइआइटी की संयुक्त प्रवेश परीक्षा में 330वां स्थान मिला है। वह इंजीनियर बन देश की सेवा करना चाहता है। इससे पूर्व अतुल ने इसी वर्ष 12वीं की परीक्षा में 8ीसदी अंक हासिल कर साइंस में स्कूल के द्वितीय टॉपर रहे थे। अतुल ने अपनी सफलता का श्रेय पिता मनोज कुमार सिंह, माता उषा सिंह और शिक्षकों को दिया है। न्यूटन ट्यूटोरियल के नौ सफलसंवाददाता रांची हरिओम टॉवर स्थित न्यूटन ट्यूटोरियल के नौ परीक्षार्थियों ने आइआइटी की परीक्षा में सफलता हासिल की है। एसटी में निलेश रांन खाखा को 31वां, दानिश गौहर को वां, ऋषभ कुमार को 1776वां, हिमांशु गोयल को 1वां, नवेंदू को 2504वां, रौशन को 3541वां अभय कुमार को 4420, विवेक कुमार को 5638वां और सुमीत कुमार को 6366वां रैंक मिला है।ड्ढr आरके क्लासेसड्ढr समुद्रा काम्पलेक्स स्थित आरके क्लासेस के विद्यार्थियों नेआइआइटी की परीक्षा में उत्कृष्ठ प्रदर्शन किया है। संस्थान के 17 विद्यार्थियों को सफलता मिली है। इसमें अतुल आनंद को 330वां, सौरभ यशश्वी को3258वां, कौस्तुभ राय को 2वां, अजरुन जोजो को 40वां, निशांत गौरव को 47वां, नीरा पाठक को 6132वां रैंक मिला है। संस्थान के निदेशक राजेश कुमार ने सभी सफल विद्यार्थियों को बधाई दी है। इंडीवर क्लासेस के 22 छात्र सफलदिव्यम को 603वां स्थानड्ढr संवाददाता रांची आइआइटी की परीक्षा में कोचिंग संस्थान इंडीवर क्लासेस के 22 छात्रोंने सफलता हासिल की है। दिव्यम को पूर देश में 603 वां स्थान मिला है। उत्कर्ष को 714वां, श्वेता को 1044, मोहित सोनी को 2531, अंजू कुमारी को 2535, अमित कुमार को 2547, मनीष कुमार को 200, अमराीत को 208, अभिषेक को 3270, केशव अग्रवाल को 3814,पारस तनेजा को 4442, तरंग को 5061, प्रणव अग्रवाल को 5272, सुमन को 5880, मारकंद को 6025, प्रियेश ठाकुर को 6526, मानवेंद्र सिंह को 60, सत्येंद्र सिंह को 6मो बशीर को 7116, सुभाष को 753और जयंत को 7800वां स्थान मिला है। छात्रों की इस सफलता पर संस्थान के डायरक्टर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष नामांकन लेनेवालों को छात्रवृति भी दी जायेगी। अधिकतर सफल छात्रों की चाहत मैनेजमेंटहिन्दुस्तान ब्यूरो रांची आइआइटी प्रवेश परीक्षा में कोचिंग संस्थान आइआइटी स्टडी सेंटर एनओपी और कचहरी के अभ्यर्थियों ने परचम लहराया है। इस संस्थान से 30 से अधिक विद्यार्थी आइआइटी प्रवेश परीक्षा में सफल हुए हैं।ड्ढr सफल छात्रों में राजशेखर साकेत सौरव 1873, कमलनयन 2123, आशीष प्रसाद 2232, श्रेया श्रृति 2306, सोनम बाला 3205, राहुल नेवतिया 3245, अरूणेंद्रनाथ राय 3432, ओमजी आनंद 3802, राहुल कुमार 3पुनीत पल्लव 4205, अंकित कुमार 448शिव प्रकाश ओझा 5228, अनुराग 6वृजनंदन झा और स्मृद्धि श्री मेरिट लिस्ट में शामिल हैं। अन्य कई छात्रों के परिणाम आने अभी बाकी है।ड्ढr निदेशक बोलेड्ढr स्टडी सेंटर के डायरक्टर बीके सिंह ने आइआइटी के सफल छात्रों के स्वर्णिम भविष्य की कामना की। उन्होंने इस सफलता का श्रेय छात्रों को दिया। उन्होंने कहा कि सही रणनीति से तैयारी, विषय वस्तु का ज्ञान और प्रत्येक विषय पर बराबर ध्यान देकर सफलता हासिल की जा सकती है। प्रतियोगी छात्रों को सोच, संकल्प और दृढ़ निश्चय के साथ परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए। निदेशक को इस बात का अफसोस है कि जो छात्र सफल हुए वे आशा के अनुरूप रैंक नहीं ला पाये, तथा ऐसे बहुत से छात्र असफल हुए, जिनसे उन्हें काफी उम्मीद थी। संवाददाता रांची आइआइटी में सफल छात्र-छात्राओं का रुझान भारतीय प्रशासनिक और पुलिस सेवा की ओर नहीं है, यह मैनेजमेंट और इांीनियरिंग में ही जाना चाहते हैं।ड्ढr श्रेया श्रति : डीएवी श्यामली छात्रा रही है। यह इांीनियरिंग के बाद मैनेजमेंट करना चाहती है। इसका आइएस और आइपीएस की रूझान नहीं है। भविष्य में फिािक्स में रिसर्च करना चाहती है। सफलता में पिता रिपूंजय प्रसाद और निदेशक बीके सिंह के देती है।ड्ढr गुरुमीत शेखर : डीएवी श्यामली का छात्र आइएससी करने के बाद एक साल रूककर आइआइटी की तैयारी की। शेखर भी मैनेजमेंटर करना चाहता है। मैनेजेरियल सर्विस में जाना जाता है। सामान्य ज्ञान की तैयारी नहीं होने से प्रशासनिक सेवा की ओर झुकाव नहीं है। पिता केएस शेखर एमआर हैं।ड्ढr अंकित कुमार : पिता एरिगेशन में जेइ है। डीपीएस का छात्र हैं। आइआइटी में सफलता के लिए जो क्लास में पढ़ाई हुई वही उसके लिए काफी रहा। इांीनियरिंग के बाद भविष्य की बात अभी सोचा नहीं है। आइआइटी स्टडी सेंटर को अपने सफलता का श्रेय देता है। घर में कोई विशेष पढ़ाई नहीं की। कंप्यूटर में गेम खेलने की हॉबी है।ड्ढr अनुराग : डीएवी श्यामली का छात्र रहा है। पिता सुरंद्र प्रसाद पथ निर्माण में एसडीओ हैं। आइआइटी में सफलता के लिए अध्ययन के संबंध में बताया कि बोर्ड के लिए जो सलेबस है, उसे बेहतर तरीके से पढ़ा जाय तो कोई भी परीक्षा पास की जा सकती है। पांच घंटा डेली पढ़ता था। भविष्य में एमबीए और यूपएससी परीक्षा उत्तीर्ण करने की इच्छा है।ड्ढr राजशेखर : आइआइटी में जाने की इच्छा 10वीं के बाद हुई। डीएवी श्यामली का छात्र है। सफलता का श्रेय स्टडी सेंटर निदेशक और माता पिता को देता है। बस आगे बढ़ते जाने का उद्देश्य है। एकाग्रता और लगन से पढ़ाई तथा सही मार्गदर्शन से कोई भी परीक्षा पास करने की बात कहता है।ड्ढr शिव प्रकाश ओझा : डीएवी जवाहर विद्यामंदिर का छात्र अध्यापकों, दोस्तों और परिवार के लोगों को अपनी सफलता का श्रेय देता है। आइआइटी सिटी सेंटर खुद की तैयारी और फिटाी की मदद अपनी सफलता का मंत्र मांगता है। कंप्यूटर इांीनियरिंग बनना चाहता है। लक्ष्य की और ध्यान रखता है।ड्ढr साकेत सौरव : गिरिडीह डीएवी का छात्र है। अपनी सफलता में स्टडी सेंटर का निदेशक बीके सिंह का महत्वपूर्ण योगदान मानता है। एकाग्र मन से तैयारी सही मार्गदर्शन और उचित किताबों के अध्ययन को आइआइटी में सफलता का सूत्र मानता है। एमबीए लक्ष्य है।ड्ढr आशीष प्रसाद : जवाहर विद्या मंदिर श्यामली का छात्र है। शिक्षकों, माता पिता और शुभचिंतकों को अपनी सफलता का श्रेय देता है। गणित में उचित मार्गदर्शन के लिए स्टडी सेंटर को प्रमुख मानता है। सफल इांीनियर बनकर माता-पिता का नाम रोशन करना चाहता है। कड़ी मेहनत करने का सुझाव देता है।ैराजधानी के 250 विद्यार्थी आइआइटी की परीक्षा में सफल38वां स्थान लाकर अंकित बने राजधानी टॉपरआइआइटी जेइइ का परिणाम 30 मई को वेब साइट पर जारी किया गया। राजधानी से लगभग 250 विद्यार्थियों के आइआइटी में सफल होने की सूचना मिली है। कई परीक्षार्थी रांची से बाहर हैं, जिसके कारण उनका परिणाम नहीं मिल पाया है। राजधानी के विभिन्न कोचिंग संस्थानों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार आइआइटी की परीक्षा में रांची के विद्यार्थियों का बेहतर प्रदर्शन रहा है। फिटाी से 81, चैतन्या से 31, इंडीविर से 22, आरके क्लासेस से 17, प्लेजर ऑफ फिािक्स से 15, एसएम कार से 10 न्यूटन ट्यूटोरियल में नौं और आआइटी स्टडी सेंटर से 30 परीक्षार्थियों के सफल होने की जानकारी मिली है। अंकित कुमार ने देश में 38वां स्थान प्राप्त कर राजधानी में सबसे उंपर रैंक वाले परीक्षार्थी बने हैं। इनके अलावा रघुवंशी मनी को 113वां स्थान, मो. माज को 114वां, मृणाल को 152वां सुदीप्तो मांझीको 306वां, अतुल आनंद को 330वां, संतोष कुमार को 448वां स्थान मिला है। रिाल्ट जारी होने के बाद से राजधानी में खुशी का माहौल है। बच्चे और अभिभावक एक-दूसर को बधाई दे रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: श्री चैतन्या के छात्रों का बेहतरीन प्रदर्शन