अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

समतल जमीन पर खेती करनेवाले बेशक अच्छी पैदावार पाते हैं, लेकिन अगर मेहनत करने का माद्दा हो तो तो फसलें खुरदरी-पथरीली जमीन पर भी लहलहाती हैं। 10वीं-12वीं की परीक्षाओं के रिाल्ट और टॉपरों की लिस्ट पर गौर कीािये। गांवों, अंचलों, और छोटे शहरों के ‘हीरे’ सबसे ज्यादा चमक बिखेर रहे हैं। झारखंड बोर्ड हो या सीबीएसइ-स्टेट टॉपरों की फेहरिस्त में रांची और टाटा जसे शहरों के एक-दो बच्चों को छोड़ ज्यादातर कथारा, टंडवा, बरकाकाना, बोकारो, देवघर, कोयलानगर, गढ़वा, बचरा, नोवामुंडी जसी जगहों के हैं। मकसद किसी की उपलब्धियों को कमतर आंकना नहीं, सिर्फ यह बताना है कि प्रतिभा परिस्थितियों की मोहताज नहीं होती। कामयाबी के रास्ते हमेशा साधन-संसाधन से संपन्न संसार की दहलीज से होकर ही नहीं गुजरते, लगन और हौसला हो तो अभावों के बीच भी राह फूटती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दो टूक