DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वकील बॉयकॉट पर उतर

रांची सिविल कोर्ट में न्यायपालिका और वकीलों के बीच गतिरोध पैदा हो गया है। रांची बार एसोसिएशन के आह्वान पर वकीलों ने 30 मई से कोर्ट का बॉयकॉट शुरू किया। 31 मई को भी वकील कोर्ट में कार्य नहीं करंगे। दो जून को एसोसिएशन की आमसभा बुलायी गयी है। इसमें आंदोलन की आगे की रणनीति तय होगी।ड्ढr टकराव की शुरुआत शुक्रवार की सुबह हुई। मार्निग कोर्ट की कार्रवाई के लिए जब वकील सिविल कोर्ट परिसर पहुंचे, तो देखा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट बिल्डिंग की ओर बरामदे में रखी गयीं 30-35 कुरसी और टेबुल फेंके हुए हैं। इससे कई वकील उत्तेजित हो गये। उन्होंने आरोप लगाया कि जेसी के आदेश पर बिना पूर्व सूचना के कुरसी-टेबुल हटाये गये हैं। यह वकीलों का अपमान है। इसके बाद परिसर में सभी वकील इकट्ठा हुए। मौके की नजाकत को देखते हुए एसोसिएशन के सचिव एसएस ओझा ने आपात बैठक बुलायी। इसमें 500 से अधिक वकील शामिल हुए। निर्णय लिया गया कि दो दिन कार्य बहिष्कार रहेगा। सोमवार को आगे की रणनीति तय की जायेगी। गौरतलब है कि हाइकोर्ट के कार्यवाहक चीफ जस्टिस एमवाइ इकबाल 2मई को सिविल कोर्ट आये थे। उन्होंने जेसी डीएन उपाध्याय को आदेश दिया कि 10 जून तक मेडिएशन सेंटर का निर्माण कराया जाये। जेसी ने तत्काल काम आरंभ करा दिया। निर्माण कार्य के कारण कुरसी- टेबुल हटा दिये गये। दूसरी ओर वकीलों का कहना है कि उन्हें सूचना दिये बगैर कुरसी-टेबुल क्यों हटाये गये।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वकील बॉयकॉट पर उतर