DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंडः कई जिलों में आंधी-तूफान से तबाही, पांच की मौत

प्रदेश के कई हिस्सों में शुक्रवार शाम से शनिवार दोपहर तक आए आंधी-तूफान में पांच लोगों की मौत हो गई। इनमें हजारीबाग में तीन और रामगढ़ तथा जामताड़ा में एक-एक मौतें हुई हैं। इसके अलावा कोडरमा में ठनका गिरने से दो लोग झुलस गए। चतरा में 11 हजार वोल्ट का तार टूटने से आधा दर्जन घरों में आग लग गई, जबकि सात मवेशियों की मौत हो गई। लोहरदगा में कई घरों के छप्पर उड़ गए।

 राजधानी रांची में भी दोपहर में बारिश के साथ आई आंधी में पेड़ उखड़ गए। हालांकि, बारिश और तूफान से तापमान में गिरावट आई है। इससे लोगों को गर्मी से राहत मिली है।

हजारीबाग में शुक्रवार की देर शाम आंधी-तूफान ने भगदड़ मचाकर रख दिया। सड़कों पर जहां- तहां खड़े लोग सुरक्षित स्थलों की ओर भागने लगे। तेज हवा के झोकों ने परेशान कर दिया। डिस्टिक मोड़ चौक पर 60 वर्षीय अशोक चावला ट्रक की चपेट में आ गए, जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई। जेवियर स्कूल के पास रिक्शा चालक पेड़ गिरने से उसकी चपेट में आ गया। लगभग एक घंटे के आंधी-तूफान ने शहर को अस्त-व्यस्त कर दिया। जगह-जगह बिजली और टेलीफोन के तार, खंभे आदि उखड़ गए। लाखों का नुकसान हुआ। बिजली आपूर्ति बाधित रही। इसका असर मोबाइल, टेलीफोन और एटीएम सेवाओं पर भी पड़ा। एनएच 33, ङील रोड, एनएच 100 पर कहीं डालियां तो कहीं पेड़ गिरे पड़े हैं।

तूफान ने केरेडारी में बच्चे की ली जान
तूफान ने प्रखंड के घुटू में सात वर्षीय बालक दीपक कुमार पिता कृष्णदेव की जान ले ली। उस समय बच्चा घर के बाहर खेल रहा था। इस बीच तूफान में उड़कर एसबेस्टस उसपर आ गिरा। गंभीर रूप से घायल का इलाज नर्सिंग होम में यहां चल रहा था। स्थिति बिगड़ने पर उसे हजारीबाग रेफर कर दिया गया, पर रास्ते में ही उसकी मौत हो गई।

चतरा में 11 हजार वोल्ट का तार टूटा, कई घरों में आग, सात मवेशी जिंदा जले
चतरा जिले के हंटरगंज के देवरिया गांव के मदरसा टोला के अधिकतर घरों में अचानक 11 हजार वोल्ट का तार मौत बन कर टूटी। आधा दजर्न घरों को नुकसान हुआ है। कई सामान जल कर राख हो गए। करंट से आधा दजर्न से अधिक लोग घायल हैं। सात मवेशी भी मारे गए है। आग की लपट इतनी तेज थी कि बर्तन, लोहे का बक्सा, अलमीरा पिघल गया।

रामगढ़ में ठनका से पारा शिक्षक की मौत, दो मवेशी भी मरे
रामगढ़ जिले के मगनपुर, गिद्दी और कई अन्य प्रखंडों में नुकसान की खबर है। गोला थाने की रकुवा पंचायत के गंधौनिया मंडय टांड़ में ठनका की चपेट में आने से पारा शिक्षक बीरबल भोगता (40) की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सुबह स्कूल जाने की तैयारी के सिलसिले में वह दामोदर नदी नहाने जा रहे थे। अचानक बिजली कड़की और वह वहीं ढेर हो गए। गिद्दी में भी शनिवार की दोपहर तेज हवाओं के साथ ओले पड़े। इससे घरों को नुकसान हुआ।

लोहरदगा में तेज हवा, ओलावृष्टि और बारिश ने किसानों की कमर तोड़ी
शनिवार दोपहर एक बजे से शाम लगभग छह बजे तक कहीं रूक-रूककर और कहीं तेज हवा के साथ हुए ओलावृष्टि और तेज बारिश से आम किसानों की परेशानी बढ़ गई है। तैयार गेहूं की फसल को सर्वाधिक नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि के कारण सब्जी की खेती को भी क्षति हुई है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:झारखंडः कई जिलों में आंधी-तूफान से तबाही, पांच की मौत