अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संक्षिप्प्त खबर

योजना ने प्रमाण पत्र मांगाड्ढr योजना विभाग ने विकास कार्यो के लिए ट्रेारी से निकाले गये धन का उपयोगिता प्रमाण पत्र विभागीय सचिवों से मांगा है। पिछले दिन विकास आयुक्त ने ट्रेारी से धन निकाल कर बैंको में जमा करा देने पर नाराजगी जतायी थी। सीएम एवं वित्त सचिव ने भी बैंक में सरकारी धन जमा कराने पर आपत्ति की थी।ड्ढr सीआर तैयार कराने को कहाड्ढr कार्मिक विभाग ने विभागीय सचिवों एवं प्रमंडलीय आयुक्तों को अधीनस्थ आइएएस अधिकारियों का सीआर तैयार कराने का निर्देश दिया है। जारी निर्देश पत्र में कहा गया है कि आइएएस अधिकारियों का सीआर निर्धारित समय पर विभाग को नहीं भेजा जाता है। पिछले दिन इस कारण कई अधिकारियों की प्रोन्नति की अनुशंसा डीपीसी द्वारा नहीं की जा सकी थी।ड्ढr आज सीएस से मिलेंगेड्ढr झारखंड सचिवालय सेवा संघ का प्रतिनिधिमंडल सोमवार को सीएस से मिलेगा। शनिवार को संघ के पदाधिकारियों ने बैठक कर इस आशय का निर्णय लिया था। बैठक में सहायक संयुक्त संवर्ग एवं निजी सहायक संवर्ग के कर्मचारी नेता शामिल थे। संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि सचिवालय सेवा के गठन पर सरकार का रवैया नकारात्मक है। बीएयू ने धान के बीज पर दिया सुझावड्ढr संवाददाता रांची बिरसा कृषि विवि ने जमीन के हिसाब से धान की वेरायटी की अनुशंसा की है। किसानों को इसे लगाने की अनुशंसा भी की है। निदेशक अनुसंधान डॉ बीएन सिंह ने बताया कि विवि ने काफी शोध के बाद इसकी अनुशंसा की है। प्रदर्शन के आधार पर टांड जमीन के लिए बिरसा धान-108 और बिरसा विकास धान-10मध्यम जमीन के लिए बिरसा विकास धान-110, बिरसा धान 202, ललाट और नवीन वेरायटी की अनुशंसा की गयी है।ड्ढr दोन जमीन के लिए स्वर्णा, सांभा, मंसूरी और राजश्री लगाने की बात कही है। इसी प्रकार सुगंधित धान में बीआर-10 एवं बिरसामति लगाने को कहा है। हाइब्रीड में प्रो एग्रो 6444 लगाने की अनुशंसा की है। ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संक्षिप्प्त खबर