अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि योजनाओं की समीक्षा अब हर माह होगी

ृषि विभाग की योजनाओं की समीक्षा अब हर माह होगी। सचिवालय से लेकर प्रखंड स्तर के अधिकारी हर माह योजनाओं की प्रगति की गति का आकलन करंगे। विभाग के सचिव सी के अनिल ने इस बाबत निर्देश जारी कर दिया है। निदेशक डा. एन सरवण कुमार ने तो निदेशालय स्तर पर होने वाली समीक्षा बैठक की तिथियां भी जारी कर दी हैं। उन्होंने अन्य अधिकारियों को भी इसका रोस्टर बना लेने का निर्देश दिया है।ड्ढr ड्ढr चालू वर्ष को कृषि वर्ष घोषित करने के बाद राज्य सरकार योजनाओं को जमीन पर उतारने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती। वर्ष के अंत में योजनाओं की समीक्षा करने पर पता चलता है राशि बैंक में ही पड़ी रह गई और योजना का लाभ किसानों को नहीं मिला। इसी समस्या से निपटने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है कि सरकारी योजनाएं किस गति से चल रही हैं इसकी समीक्षा हर माह निश्चित रूप से की जाये। केन्द्र से मिलने वाली राशि भी समय पर खर्च हो और उसका लाभ किसानों को मिले इसके लिए यह जरूरी है कि समय रहते ठोस निर्णय लिया जाये। राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष रामाधार ने भी यह सलाह सरकार को दी थी। हालांकि कृषि निदेशक डा. एन सरवण कुमार ने इसके पूर्व ही अपने स्तर से यह फैसला ले लिया। निदेशालय में बने रोस्टर के अनुसार जून में 13 तारीख को , जुलाई और अगस्त में 11 तारीख को सितंबर, नवंबर, दिसंबर और जनवरी 200में 12 तारीख को समीक्षा बैठक होगी। इसी प्रकार चालू वर्ष के अक्टूबर के अलावा वर्ष 200े फरवरी और मार्च माह में 13 तारीख को निदेशक स्तर पर योजनाओं और वित्तीय स्थिति की समीक्षा की जायेगी। जिला और प्रमंडल स्तर पर होने वाली समीक्षा बैठकों के फैसले विशेष दूत से वरीय अधिकारियों के पास भेजा जायेगा ताकि ऊपर में होने वाली समीक्षा के दौरान उसपर चर्चा हो सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृषि योजनाओं की समीक्षा अब हर माह होगी