DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आतंकवाद के नाम पर मुस्लिम बन रहे निशाना

देश तथा दुनिया में मुसलमानों को आतंकवाद के नाम पर निशाना बनाया जा रहा है। सरकार व प्रशासन इसपर लगाम लगाए वरना यह देश टूट जाएगा। मुसलमान युवकों के गोल्डन कैरियर को एक सााजिश के तहत तबाह किया जा रहा है।ड्ढr ड्ढr किसी मदरसे में बच्चों को आतंकवाद की शिक्षा नहीं दी जाती। प्रदेश राबता मदारिसे इस्लामिया, अरबिया के तत्वावधान में श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में आयोजित ऑल बिहार आतंकवाद विरोधी सम्मेलन में ये बातें रविवार को वक्ताओं ने कहीं। दारुल उलूम देवबंद के उस्ताद हारत मौलाना सैय्यद अरशद मदनी ने सेकुलर महाज नामक पुस्तक का विमोचन करते हुए कहा कि भारत में इस्लाम तेरह सौ साल पहले आया। अगर यह धर्म आतंकवाद का सबक देता तो मुल्क कभी का बर्बाद हो जाता। मुसलमान को आतंकवाद के नाम पर निशाना बनाने वाले देश के चंद फिरकापरस्त लोग हैं। ये गंदे जेहन के लोग सत्ता पाने के लिए यह सब कर रहे हैं।ड्ढr ड्ढr इमारत-ए- शरिया के नाएब नाजिम हारत मौलाना सैय्यद वली रहमानी ने कहा कि मुसलमानों को झूठे मुकदमों में फंसाकर उन्हें परशान किया जाता है। अगर इसी तरह की बातें होती रहीं तो देश में न जाने कितना कश्मीर जन्म ले लेगा। धार्मिक न्यास बोर्ड के प्रशासक आचार्य किशोर कुणाल ने कहा कि देश को धार्मिक लोगों से खतरा नहीं है। सभी मजहब के लोगों ने हमेशा देश के हित में काम किया है। देवबंद के मौलाना शौकत अली ने कहा कि आतंकवाद को किसी विशेष धर्म से जोड़कर उसपर निशाना साधना गलत है। खानकाह मुनीमिया के सज्जादा गद्दीनशीं मौलाना शमीम मुनअमी ने कहा कि इस आयोजन का मकसद मुसलमानों को आतंकवादी करार देने वालों का भंडाफोड़ करना है। इससे पूर्व राबता के प्रदेश अध्यक्ष मो. कासिम ने अपने स्वागत भाषण में मुसलमानों से एकाुट होने को कहा। इस मौके पर मौलाना सैय्यद कारी मो. उस्मान का संदेश भी पढ़ा गया। सम्मेलन में पूर्व मंत्री डा. मोनाजिर हसन, गांधी संग्राहलय के निदेशक राी अहमद, हुस्न अहमद कादरी, हाजी सनाउल्लाह, डा. बीएच खान, अब्दुल कैयूम अंसारी, नज्मुल हसन नजमी, अबुल कलाम कासमी, पूर्व विधायक अब्दुल गफूर सहित शहर व सूबे के कई नामचीन लोग मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आतंकवाद के नाम पर मुस्लिम बन रहे निशाना