DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरुषि मामले में पुलिस थी लापरवाह : सीबीआई

सीबीआई ने माना है कि आरुषि मामले में पुलिस ने शुरुआती जांच में काफी लापरवाही बरती है। उसने कई ऐसी चीजों को छोड़ दिया, जिसका फायदा हत्यारे को मिल रहा है। यह भी माना है कि जांच अधिकारी ने केस डायरी में कई बातें ऐसी लिखी हैं जिनका केस से लेना देना नहीं है। साथ ही कहा है कि पुलिस की लापरवाही के चलते ही केस सुलझने की जगह उलझा है। सीबीआई ने राजेश तलवार को एक दिन के रिमांड पर लिया और डा. अनीता दुर्रानी से घंटों लम्बी पूछताछ की और घर की तलाश भी ली। डा. अनीता वही महिला हैं, जिससे मेरठ आईजी ने डॉक्टर राजेश के अवैध संबंध बताए थे। इसके अलावा सीबीआई ने तीन पूर्व नौकरों से पूछताछ की। यही नहीं, सीबीआई ने राजेश के घर का फर्श तोड़ा और पलम्बरों की मदद से सीवर व घर की पाइपों में कत्ल के सुराग खोजने की कोशिश की। सोमवार के दिन सीबीआई की टीम के साथ फोरेसिंक एक्सपर्ट भी थे। टीम के एक अधिकारी ने कहा कि इसका यह मतलब कतई नहीं कि वह राजेश को अभियुक्त नहीं मान रहें हैं, लेकिन पुलीसिया कहानी के बाद वह पूरी तरह से संदेह के घेरे से बाहर नहीं आए हैं। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि हत्या के दिन और वर्तमान समय में काफी समय बीत चुका है जिसके कारण फोरेसिंक एक्सपर्ट्स को अनेक दिक्कतें आ रही हैं। हमें पूर्ण सबुत जुटाने के लिए अब फर्श और दीवारों की बारीकी से जांच करनी पड़ रही है। उन्होंने माना कि वर्तमान जांच अधिकारी ने केस डायरी में कई बातें गलत लिखी है और कुछ ऐसी जानकारियों को छोड़ा है जो मेंशन हो सकती थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘आरुषि मामले में पुलिस थी लापरवाह’