अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पत्रकारों के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने की मांग

मानवाधिकार संगठन सहमत ने अहमदाबाद के पुलिस आयुक्त आे पी माथुर द्वारा अपनी नियुक्ित पर सवालिया निशान लगाए जाने और अंडरवर्ल्ड से संबंधों के आरोप लगाए जाने वाली खबरें प्रकाशित करने पर अंग्रेजी दैनिक टाइम्स ऑफ इंडिया के स्थानीय संपादक और संबद्ध संवाददाता के खिलाफ देशद्रोह के आरोप में दर्ज प्राथमिकी वापस लेने की मांग की है। सोमवार कोजारी एक बयान में संगठन ने कहा कि पत्रकारों के खिलाफ राजद्रोह एवं आपराधिक साजिश के आरोप में मुकदमा दर्ज किए जाने से साफ है कि राय में अभिव्यक्ित की आजादी का कोई महत्व नहीं है। बयान के मुताबिक वर्ष 2002 में गुजरात में हुए दंगे के दौरान राय पुलिस निष्पक्ष नहीं थी जिसमें हजार से अधिक लोग मारे गए थे। गौरतलब है कि पुलिस आयुक्त ने रविवार को अखबार के स्थानीय संपादक भरत देसाई और संवाददाता प्रशांत दयाल के खिलाफ अखबार में 27 और 2मई को छपी खबरों को लेकर भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए देशद्रोह और 120बी आपराधिक षड्यंत्र के तहत दो प्राथमिकी दर्ज कराई थी। अखबार ने पिछले कुछ दिनों से माथुर के खिलाफ खबरों की श्रंखला चलाई हुई है जिसमें माथुर पर अंडरवर्ल्ड माफिया सरगना दाउद इब्राहिम एवं पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से संबंधों के आरोप लगाते हुए उनकी नियुक्ित पर सवाल उठाए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पत्रकारों के खिलाफ मामले वापस लेने की मांग