अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यशवंत सिन्हा त्रिकोणीय संघर्ष में फंसे

झारखंड में हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार अैर पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को कांग्रेस एंव राज घराने के सौरभ नारायण सिंह और भाकपा के भुवनेश्वर मेहता के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद हैं। हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से वर्ष 2004 में हुए लोकसभा चुनाव में भाकपा के भुवनेश्वर मेहता ने भाजपा के यशंवत सिन्हा को एक लाख पांच हजार 328 मतों से हराया था। हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से भाजपा के यशवंत सिन्हा, कांग्रेस के सौरभ नारायण सिंह, भाकपा के भुवनेश्वर मेहता, झारखंड विकास मोर्चा के ब्रज किशोर जायसवाल, आजसू के चंद्र प्रकाश चौधरी और झारखंड मुक्ित मोर्चा (झामुमो) के शिवलाल महतों समेत 13 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। 15 वीं लोकसभा चुनाव में हजारीबाग के मतदाता कस्टम एंव इनकम टैक्स के ट्रेंनिग सेंटर हैदराबाद शिफ्ट करने के फैसले और धीमी गति से चल रही करीब 40 किलोमीटर लम्बी हजारीबाग-रांची रोड़ रेल लाईन के कार्य की प्रगति से खासे खफा हैं। हजारीबाग में विकास का मुद्दा काफी सक्रिय हैं। हजारीबाग संसदीय क्षेत्र में कुल पांच विधानसभा क्षेत्र हैं जिसमें कांगेस के दो और भाजपा, जद(यू) और आजसू के एकएक विधायक हैं। हजारीबाग सदर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के सौरभ नरायणसिंह, बड़कागांव विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के लोकनाथ महतो, रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र आजसू के चंद प्रकाश चौधरी, बरही विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के मनोज कुमार यादव और मांडू विधानसभा क्षेत्र से जद (यू) के खीरू महतो विधायक हैं। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार हजारीबाग संसदीय क्षेत्र में कुल 736 मतदान केन्द्र है जिसमें 613 मतदान केन्द्र उग्रवाद प्रभावित क्षेत्र के अन्तर्गत हैं। सूत्रों ने बताया कि 16 अप्रैल को हजारीबाग संसदीय क्षेत्र में करीब 12 लाख 57 हजार 77 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेगें। हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से वर्ष 1में भाजपा से यदुनाथ पांडेय, 1में भाकपा से भुवनेश्वर मेहता, 1में महावीर विश्वकर्मा, 1और 1में भाजपा से यशवंत सिन्हा एंव 2004 में भाकपा के भुवनेश्वर मेहता लोकसभा चुनाव जीत चुके है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: यशवंत सिन्हा त्रिकोणीय संघर्ष में फंसे