अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रचंड ने की ‘हिन्दुस्तान’ से खुलकर बात

नेपाल में 10 मई के संविधान सभा के चुनाव में माओवादी पार्टी सबसे बड़े दल के रूप में उभरे हैं और उन्होंने 601 सदस्यीय संविधान सभा में 220 सीटें प्राप्त की हैं। लेकिन हिंसात्मक गतिविधि से राजनीति की मुख्यधारा में आई यह पार्टी अब भी देश में सरकार बनाने के लिए जूझ रही है, क्योंकि अन्य दलों ने अभी उसे अपने समर्थन की घोषणा नहीं की है। लगभग एक दशक तक व्यापक खून खराबे और इस दौरान करीब 13,000 लोगों की हत्याएं देख चुके इस निर्धनतम देश अब गणराय घोषित हो चुका है और यहां 240 साल पुरानी राजशाही इतिहास की चीज बन चुकी है। इस बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में माओवादी पार्टी के प्रमुख प्रचंड देश के सबसे ताकतवर नेता बन चुके हैं। प्रचंड ने मंगलवार सुबह देश की स्थितियों पर इस अखबार के साथ लंबी बातचीत की। नेपाल अब गणतंत्र बन चुका है। आप इस बारे में क्या महसूस कर रहे हैं?ड्ढr नेपाल के गणतंत्र बनने पर सारा देश खुशी से झूम रहा है। यह 240 साल पुराने सामंती व्यवस्था का अंत है। इसलिए नेपाल के लोग काफी खुश हैं और अब हम लोग नए नेपाल की स्थापना के लिए प्रयास करेंगे। सरकार बनाने में कितना और समय लगेगा?ड्ढr पिछले एक सप्ताह से गंभीर राजनीतिक विचार-विमर्श में व्यस्त हैं। अगले एक हफ्ते के अंदर राजनीतिक मुद्दे हल कर लिए जाएंगे, और हम सरकार बनाने में सफल हो जाएंगे। सरकार बनाने के लिए अन्य दलों का समर्थन आपको है?ड्ढr बिल्कुल, जनमोर्चा नेपाल ने पहले से ही हमें समर्थन दे रखा है। इसके अतिरिक्त हम मधेशी जनाधिकार फोरम, नेपाल कांग्रेस और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (एमाले) के साथ राजनीतिक विचार-विमर्श कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि एक सप्ताह के अंदर ही हम सरकार बनाने में कामयाब हो जाएंगे। आपकी सरकार के लिए प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला कब इस्तीफा दे रहे हैं?ड्ढr हम नहीं चाहते कि वे (कोइराला) हटें या इस्तीफा दें। हम चाहते हैं कि वह हमारे नए गठबंधन का अभिभावक बने रहें और हर कदम पर हमारा मार्गदर्शन करते रहें। असल में, हम उन्हें महत्वपूर्ण राजनीतिक भूमिका में देखना चाहते हैं। यह भूमिका वैसी ही हो सकती है जसी कि भारत में संप्रग में सोनिया गांधी की है। यह सच है कि आपकी पार्टी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों पदों पर दावा कर रही है?ड्ढr हां, हमारी पार्टी के वरिष्ठ नेता चाहते हैं कि बड़ी पार्टी होने के कारण दोनों पद हमें ही मिलने चाहिए। पार्टी ने घोषणा पत्र में भी मुझे ही राष्ट्रपति के तौर पर प्रस्तुत किया था। इसलिए हम इस पद पर किसी और का नाम लेने की स्थिति में नहीं हूं। आपकी पार्टी नेपाल को कम्युनिस्ट गणतंत्र बनाना चाहती है?ड्ढr अभी हम लोकतांत्रिक गणतंत्र के लिए प्रयासरत हैं और फिलहाल इसे कम्युनिस्ट गणतंत्र नहीं बनाना चाहते। हम सामंती व्यवस्था के खिलाफ रहे हैं और इसे बदलना चाहते हैं। हम चाहते हैं कि नेपाल में विदेशी निवेश हो। क्या आप कम्युनिम का पश्चिम बंगाल मॉडल लागू करना चाहेंगे?ड्ढr मैं पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य से बहुत कुछ सीखना चाहूंगा। उन्होंने भूमि सुधार और कृषि विकास के लिए बहुत काम किया है। लेकिन हम उनकी कॉपी बनने के बजाये उस मॉडल में कुछ सुधार करना चाहेंगे। सरकार बनने के बाद सबसे पहले आप किस देश में जाना चाहेंगे?ड्ढr मैं अपने दोनों विशाल पड़ोसी देशों- भारत और चीन की यात्रा करना चाहूंगा। दोनों पड़ोसी तेजी से विकसित हो रही अर्थव्यवस्थाएं हैं। हम इनकी मदद से आगे बढ़ेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रचंड ने की ‘हिन्दुस्तान’ से खुलकर बात