अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मारे गए गुर्जरों का अंतिम संस्कार

राजस्थान के भरतपुर जिले के पीलू का पुरा में मारे गए 16 लोगों का मंगलवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। इधर, गुर्जरों को आरक्षण देने के मामले में कानून मंत्रालय की राय से इत्तफाक रखते हुए केंद्र ने भले ही बाल वापस राजस्थान सरकार के पाले में डाल दी हो, लेकिन वसुंधरा सरकार को लिखित में क्या जवाब दिया जाए, इस बारे में मंगलवार को गृहमंत्री शिवराज पाटिल ने एक बार फिर एक बैठक की। पाटिल ने देर शाम प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मुलाकात की जिसमें मुख्य मुद्दा यही था। इसके बाद उन्होंने कैबिनेट सचिव और गृह सचिव के साथ बैठक की। वरिष्ठ अधिकारियों ने साफ किया कि जवाब मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पत्र की ही तरह राजनीतिक शैली में दिया जाएगा। 23 मई को पीलू का पुरा में मारे गए 16 लोगों का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। इन लोगों का पोस्टमार्टम सोमवार को हो गया था। दौसा जिले के सिकंदरा में पोस्टमार्टम का काम जारी है। यहां 20 में से 11 शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है। राय सरकार के प्रवक्ता एवं संसदीय कार्यमंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़ के अनुसार 11 शवों का उनके परिजनों ने गांव ले जाकर दाह संस्कार किया जबकि पांच शवों की अंत्येष्टि एक-एक करके धरनास्थल से करीब 300 मीटर दूर की गई। दरअसल, गुर्जर नेताओं की इस मसले पर हुई बैठक में कुछ की राय थी कि अंतिम संस्कार कर दिये जाने से आंदोलन कमजोर पड़ सकता है लेकिन विचार-विमर्श के बाद परिजनों की मांग पर अलग-अलग अंतिम संस्कार करने का फैसला लिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मारे गए गुर्जरों का अंतिम संस्कार