अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस के पक्ष में

इस बात पर नोएडा पुलिस की घनघोर आलोचना हो रही है कि उसने आरुषि हत्याकांड की जांच में गड़बड़ी की। उसके खिलाफ इतना शोरशराबा है कि पुलिस वाले अपना पक्ष तक नहीं रख पा रहे हैं। पुलिसवालों का पक्ष प्रस्तुत करने की यहां विनम्र कोशिश की जा रही है। आरोप एक- पुलिस पर आरोप है कि वह नौकर की लाश छत पर नहीं ढूंढ़ पाई। उत्तर- आरुषि के माँ-बाप की गलती है। उन्हें पहले पता लगाना था कि उनके घर में कहाँ-कहाँ लाशें हैं, फिर पुलिस को इत्तला देनी थी। अधूरी जानकारी उनकी गलती है, पुलिस की नहीं।ड्ढr आरोप दो- पुलिस बार-बार अलग-अलग बयान देती रही।ड्ढr उत्तर- पुलिस का काम है उपलब्ध सबूतों के आधार पर नतीजे प्रस्तुत करना। अब अगर रो अलग-अलग सबूत मिल रहे हों तो अलग-अलग बयान क्यों नहीं दिए जाएं।ड्ढr आरोप तीन- पुलिस ने घटनास्थल को सुरक्षित नहीं रखा, सबूत नष्ट हो जाने दिए।ड्ढr उत्तर- पुलिस को किसी ने बताया था कि उसे घटनास्थल के साथ छेड़छाड़ नहीं करनी है। किसी भी जगह को साफ रखना हमारा कत्तर्व्य है, पुलिस की इस बात के लिए प्रशंसा की जानी चाहिए कि जल्द से जल्द उन्होंने घटनास्थल की सफाई करवा दी।ड्ढr आरोप चार- बिना पर्याप्त सबूतों के उन्होंने डॉ. तलवार को हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।ड्ढr उत्तर- यह तो साफ है कि हत्या किसी ऐसे आदमी ने ही की होगी जो उस रात घटनास्थल पर मौजूद होगा। न्यूयार्क या लंदन में बैठा आदमी तो नोएडा में हत्या नहीं कर सकता। इस दृष्टि से डॉ. तलवार के हत्या करने की आशंका प्रबल है। फिर जो आदमी सामने मौजूद हो, उसे छोड़कर इधर-उधर ढूंढ़ना कहां की बुद्धिमानी है। वैसे मीडिया का प्रेशर नहीं होता तो डॉ. तलवार ने हत्या की हो या नहीं, उनसे कुबूल तो करवा ही लिया गया होता।ड्ढr आरोप पांच- पुलिस पर आरोप है कि उन्होंने तलवार परिवार और उनके अन्य मित्रों का चरित्र हनन मीडिया के सामने किया।ड्ढr उत्तर- एक तो पुलिस का काम किसी को अच्छे कैरक्टर का सर्टिफिकेट देना है नहीं, वैसे पुलिस किसी को अच्छे चालचलन का सर्टिफिकेट दे भी दे तो कौन मानेगा। पुलिस ने तो इस केस में बड़े संयम से काम किया है, वरना पुलिस अगर किसी का कैरक्टर खराब साबित करने पर तुल जाए, तो बड़ी मुश्किल हो जाएगी। पुलिस ने बेहद संयत भाषा में, सयता के साथ चरित्र की चर्चा की है, अब यह किसी को नागवार गुजरी हो तो यह उसकी दिक्कत है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुलिस के पक्ष में