अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा कर रही है ता-ता थैया

महंगाई की मार से जनता पहले से ही त्रस्त है। ऊपर से केंद्र ने पेट्रोल और रसोई गैस की कीमत बढ़ाकर गाज ही गिरा दी है। यूपीए इससे बेहाल है और भाजपा ता-ता थैया कर रही है। सरकार को घेरने, लपेटने और आक्रमण करने के लिए भाजपा को इससे बड़ा और क्या मुद्दा मिल सकता था। सो एक तरह से उसकी बांछें खिल गयीं हैं। दिल्ली से लेकर राज्यों तक भाजपायी सड़कों पर उतर चुके हैं और केंद्र सरकार के खिलाफ लानत-सलामत करने के अभियान में जुट गये हैं। यह सिलसिला जारी रहेगा।ड्ढr आनेवाले दिनों में कई राज्यों में विधानसभा और अगले साल की शुरुआत तक लोकसभा के चुनाव होनेवाले हैं। भाजपा को बैठे ठाले मुद्दे पर मुद्दे मिल रहे हैं। महंगाई को भाजपा ने पहले से ही बड़ा हथियार बनाकर संसद के अंदर और बाहर सरकार को कई बार घेरने को कोशिश की है। सरकार के खिलाफ जन आंदोलन के लिए इससे बड़ा हथियार तो हो नहीं सकता है। यह तो बड़ा चुनावी मुद्दा भी है। कर्नाटक चुनाव में भाजपा को महंगाई से भी बहुत मदद मिली।ड्ढr जनता को अपनी ओर से खींचने और सरकार के विमुख करने के लिए बहुत मशक्कत नहीं करनी पड़ती है। मुद्दा पाकर भाजपा की केंद्र से लेकर प्रादेशिक इकाइयों के नेताओं के चेहर खिल उठे हैं। झारखंड भाजपा तो दोहरे लाभ की स्थिति में है। अभी-अभी एक पखवाड़े का सरकार विरोधी आंदोलन खत्म हुआ है। अंतर्विरोध से जूझ रही झारखंड भाजपा इस आंदोलन से पूरी तरह रिचार्ज हो गयी है। । झारखंड में तो लोकसभा संग विधानसभा के भी चुनाव होने के आसार हैं। भाजपा महंगाई के मुद्दे पर चुनाव आने तक आंदोलन को गरम रखने के मूड में तो आ ही गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा कर रही है ता-ता थैया