अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूबे से भय का माहौल खत्म : नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वे 12 वर्षो के संघर्ष के बाद सत्ता में आए हैं इसलिए अभी सत्ता से हटने वाले नहीं हैं।सरकार राज्य की जनता का विश्वास जीतकर बनी है इसलिए इतनी जल्दी वे मुख्यमंत्री की कुर्सी से नहीं हटेंगे विपक्ष चाहे जितनी अफवाहें फैला ले। गुरुवार को रविन्द्र भवन में अखिल भारतीय साईं शाह कमिटि एवं पसमांदा समाज के अधिकार सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य से भय का वातावरण समाप्त हो गया है और अब जनता भयमुक्त होकर रह रही है। पिछले ढाई सालों में राज्य में कोई सामूहिक नरसंहार की घटना नहीं हुई है। पहले अपराधियों को बचाया जाता था लेकिन अब अपराधी कानून के शिकंजे में बंधते जा रहे हैं। हमारी सरकार सामाजिक तनाव को बर्दाश्त नहीं करगी। जनता का विश्वास मिला है इसलिए राज्य में एक नया माहौल बनाया है। सरकार शिक्षा एवं स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दे रही है।ड्ढr ड्ढr नीतीश कुमार ने विपक्ष पर चुटकी लेते हुए कहा कि पिछली सरकार कहती थी कि विकास के लिए पैसे नहीं हैं लेकिन आज पैसा कहां से आ रहा है? राज्य सरकार विकास के काम में पैसे का सदुपयोग कर रही है। सरकार न्याय के साथ विकास कर रही है जिसे पूरा देश देख रहा है। लोग जाति नहीं जमात की राजनीति करं तभी राज्य का विकास हो सकता है। सरकार पसमांदा समाज की समस्याओं का भी निराकरण करगी। वे चाहते हैं कि मुसलमान व ईसाई में जो दलित हैं उन्हें भी आरक्षण की सुविधा मिले। राज्य अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष नौशाद अहमद ने कहा कि राजद सरकार ने मुसलमानों को ठगने का काम किया लेकिन नीतीश सरकार उसे मुख्य धारा में लाने का प्रयास कर रही है। इसलिए मुसलमान भी राजद के झूठे नार से सावधान रहें और लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार के हाथ को मजबूत करं। सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए तसलीम जमाल जौहरी ने कहा कि पिछली सरकार ने अल्पसंख्यकों के साथ अन्याय किया है जिससे सत्ता में हमारी भागीदारी नहीं बढ़ी। पूर्व सांसद लालबाबू राय ने कहा कि नीतीश सरकार के प्रयास से ही अति पिछड़ों व दलितों को सत्ता में भागीदारी मिली है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सूबे से भय का माहौल खत्म : नीतीश