अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टरों का आज राजभवन मार्च

हड़ताली कांट्रैक्ट डॉक्टरों की सेवा समाप्त किये जाने के चिकित्सकों की पूरी बिरादरी नाराज है। सरकारी और गैर सरकारी सभी डॉक्टर एकाुट होकर सरकार के इस कदम का विरोध कर रहे हैं। गुरुवार को पूर दिन बैठकों का दौर चलता रहा। मेडिकल कॉलेजों के डॉक्टरों ने भी कांट्रैक्ट डॉक्टरों को समर्थन दिया है। कांट्रैक्ट डॉक्टर संघ और आइएमए ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं राजद नेता लालू प्रसाद से मिल कर पूर मामले की जानकारी देने का निर्णय लिया है। डॉ मृत्युंजय सिंह के नेतृत्व में एक दल दिल्ली रवाना हो चुका है।ड्ढr बर्खास्त किये गये कांट्रैक्ट डॉक्टरों ने कहा कि सरकार झूठ बोल रही है। डॉक्टर एकाुट हैं। आइएमए राज्य सचिव डॉ आरसी झा ने कहा कि 553 डॉक्टर हड़ताल पर हैं। 266 डॉक्टरों के लौटने का झूठा आंकड़ा सरकार दे रही है। छह जून को दिन के 1.30 बजे आइएमए सभागार में सभी 553 डॉक्टर उपस्थित रहेंगे और वे राजभवन मार्च में भी शामिल होंगे। राजभवन मार्च के बाद राज्यपाल से मिल कर ज्ञापन दिया जायेगा। इससे पहले वे झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरन से मिल कर अपनी बात रखेंगे।ड्ढr आइएमए के राज्य सचिव डॉ आरसी झा ने कहा कि इस आंदोलन को राष्ट्रीय स्तर पर ले जायेंगे। कांट्रैक्ट डॉक्टर संघ के अध्यक्ष डॉ विमलेश सिंह ने कहा कि छह जून को पूर राज्य के हड़ताली डॉक्टर रांची में जमा होंगे। उस दिन दोपहर एक बजे आइएमए और अन्य सगंठनों के पदाधिकारियों एवं झासा के साथ संयुक्त बैठक होगी। इसमें आगे की रणनीति तय होगी।ड्ढr जेपीएससी में बर्खास्त डॉक्टरों के बैठने पर विचार : स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही ने कहा है कि जेपीएससी द्वारा ली जानेवाली डॉक्टरों की नियुक्ित की परीक्षा में बर्खास्त डॉक्टरों को बैठने की अनुमति नहीं देने पर सरकार विचार कर रही है। अधिकारियों की छुट्टी रद्द सेना से ली जायेगी मदद संवाददाता रांची स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही ने कहा है कि कांट्रेक्ट डॉक्टरों की सेवा समाप्त होने से राज्य में चिकित्सा व्यवस्था प्रभावित नहीं होगी। नयी नियुक्ित होने तक स्थिति से निबटने की तैयारी कर ली गयी है। गुरुवार को विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए मंत्री ने कहा कि सीसीएल, बीसीसीसएल, बीजीएच, एचइसी, अपोलो अस्पताल, एनजीओ और नर्सिग होम संचालकों के साथ संपर्क कर सहयोग लें। चिकित्सा सुविधा बहाल रखने के लिए यहां के चिकित्सकों की सेवाएं ली जायेंगी। बैठक में स्वास्थ्य सचिव सियाराम प्रसाद सहित कई अधिकारी शामिल थे। मंत्री ने सभी अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने को कहा कि हर पीएचसी पर डॉक्टर रहें। सभी पदाधिकारियों का अवकाश फिलहाल रद्द कर दिया है। सरकार सेना से भी सहयोग हासिल करने की कोशिश कर रही है। इसके लिए गुरुवार को अधिकारियों से बातचीत की गयी। त्रिस्तरीय कमेटी गठन का निर्देशड्ढr संवाददाता रांची स्वास्थ्य मंत्री ने कांट्रेक्ट डॉक्टरों की सेवा समाप्त करने से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए त्रिस्तरीय प्रखंड, अनुंडन और जिला स्तर पर कमेटी गठन करने का निर्देश स्वास्थ्य सचिव को दिया है। प्रखंड स्तर पर बीडीओ, अनमंडल स्तर पर अनुमंडल पदाधिकारी और जिला स्तर पर डीसी की अध्यक्षता में कमेटी गठन करने को कहा गया है। कमेटी अपने क्षेत्र में 24 घंटे रोगियों को चिकित्सा सेवा सुनिश्चित करगी। चिकित्सा व्यवस्था संलग्न पदाधिकारी का मोबाइल एवं फोन नंबर 12 घंटे के अंदर विभाग को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। कहा गया है कि सिविल सर्जन सहित कोई भी चिकित्सा पदाधिकारी अपना मोबाइल बंद नहीं रखेंगे। मरीा की संख्या और उनके इलाज की अद्यतन स्थिति की जानकारी मंत्री, स्वास्थ्य कोषांग और सचिव कोषांग में प्रतिदिन शाम को उपलब्ध कराना अनिवार्य है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: डॉक्टरों का आज राजभवन मार्च