अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किशोर कुणाल ने दी सलाहनिष्पक्ष रहें इतिहासकार

बिहार राज्य धार्मिक न्यास परिषद के अध्यक्ष आचार्य किशोर कुणाल ने इतिहासकारों को निष्पक्ष रहने की सलाह दी है। इतिहास को विकृत करने की एक साजिश चल रही है। इससे इतिहासकारों को सावधान रहना होगा। अन्यथा लोगों के सामने हमार अतीत का दर्पण नहीं बल्कि उसका विकृत चेहरा सामने होगा। उनकी लेखनी सत्य की कसौटी पर खड़ा उतरनेवाला होना चाहिए।ड्ढr ड्ढr आचार्य कुणाल ने गुरुवार को कालिदास रंगालय में डा.भूप नारायण मल्लिक की पुस्तक ‘भारतीय इतिहास के प्ररक तत्व खंड-1’ का लोकार्पण करते हुए यह बातें कहीं। समारोह की अध्यक्षता इतिहासकार डा.ओपी जायसवाल ने की। आचार्य कुणाल ने लेखक मल्लिक की सराहना करते हुए कहा कि यह पुस्तक छात्रों व शोधकर्ताओं के लिए उपयोगी साबित होगी। पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डा.एसएनपी सिन्हा ने इसे शोधपरक पुस्तक बताया है। प्रो. रामबुझावन सिंह ने कहा कि जो इतिहास को भूल जाएगा वह अपने गौरवशाली परंपरा को भूल जाएगा। पटना विश्वविद्यालय मैथिली स्नातकोतर विभाग की डा.वीणा कर्ण, परश सिन्हा व लेखक डा. मल्लिक ने भी अपने विचार रखे। संचालन बाबूलाल मधुकर ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: किशोर कुणाल ने दी सलाहनिष्पक्ष रहें इतिहासकार