DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीडीएस रिफंड पर लगा ग्रहण

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा एक साल से करदाताओं को टीडीएस रिफंड नहीं दिया जा रहा है। इससे करोड़ों करदाता परशान हैं। विभागीय अधिकारियों द्वारा बताया जाता है कि पेपरलेस रिटर्न फाइल करने से यह समस्या पैदा हुई है। हाल में निर्णय लिया गया है कि 25 हाार रुपये से कम टीडीएस रिफंड क्लेम करनेवालों को भुगतान कर दिया जाये। इससे अधिक जिनका क्लेम बनता है, उन्हें अपना रिफंड प्राप्त करने के लिए कुछ और इंतजार करना पडेगा। पिछले वित्तीय वर्ष में विभाग ने दो पेज के रिटर्न फार्म को हटा कर 30 पेज का कर दिया था। इ-फाइलिंग भी शुरू कर दी गयी है। उसके अनुसार साफ्टवेयर में जरूरी बदलाव अब तक नहीं किया जा सका है।ड्ढr बैंक में जो टीडीएस अथवा कर की राशि जमा की जाती है, उसे नेशनल सिक्यूरिटी डिपोजेटरी लिमिटेड (एनएसडीएल) द्वारा साइट पर लोड किया जाता है और ये सूचनाएं इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को बेवसाइट पर उपलब्ध करायी जाती हैं। दाखिल रिटर्न में यदि एक भी सूचना छूट जाती है या गलत भरी जाती है, तो यह बैंक में जमा की गयी राशि से मैच नहीं करता है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट जब एनएसडीएल के साइट पर जाता है, तो रकम में अंतर के कारण भुगतान करना संभव नहीं हो पाता है।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टीडीएस रिफंड पर लगा ग्रहण