अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तुर्की में जारी रहेगी बुर्के पहनने पर पाबंदी

तुर्की की सवर्ोच्च अदालत ने कॉलेज जाने वाली छात्राआें को हिजाब (बुर्के) पहनने की इजाजत देने का प्रस्ताव ठुकरा दिया है। अदालत ने इसे धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ बताया है। तुर्की की संसद ने कॉलेज जाने वाली छात्राआें को हिजाब पहनने की इजाजत देने के समर्थन में एक विधेयक पारित किया था। लेकिन तुर्की की सवर्ोच्च अदालत ने इसे देश के धर्मनिरपेक्ष सिद्धांतों के खिलाफ बताया है। तुर्की की सरकार का कहना है कि हिजाब या दुपट्टा पहनने पर लगी पाबंदी की वजह से ऐसी हजारों लड़कियां उच्च शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय नहीं जातीं जो हिजाब पहनना या सिर पर दुपट्टा रखना पसंद करती हैं। तुर्की की संसद ने उच्च शिक्षण संस्थानों में महिलाआें के हिजाब पहनने या सिर पर दुपट्टा रखने पर लगी पाबंदी को हटाने के लिए पहले संवैधानिक संशोधन को 107 के मुकाबले 403 मतों से मंजूरी दी थी। लेकिन तुर्की की धर्मनिरपेक्ष प्रशासनिक व्यवस्था में अधिकतर लोगों ने इसका विरोध किया है। विरोधियों का कहना था कि हिजाब या सिर पर दुपट्टा रखना इस्लामिक राजनीति का प्रतीक है। इससे तुर्की गणराय की धर्मनिरपेक्षता को खतरा पैदा होता है। तुर्की की एक अन्य अदालत में सत्तारूढ़ एके पार्टी (एकेपी) पर धर्मनिरपेक्ष मूल्यों से खिलवाड़ करने का मामला चल रहा है। इस मामले में अदालत एकेपी को प्रतिबंधित करने का फैसला भी सुना सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तुर्की में जारी रहेगी बुर्के पहनने पर पाबंदी