DA Image
28 अक्तूबर, 2020|11:39|IST

अगली स्टोरी

मुलायम का आपत्तिजनक बयान, रेप के लिए फांसी गलत

मुलायम का आपत्तिजनक बयान, रेप के लिए फांसी गलत

सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने एक बेहद विवादित बयान देते हुए बलात्कार के लिए दी जाने वाली मौत की सजा पर सवाल उठाए और कहा कि लड़कों से कभी-कभी गलतियां हो जाती हैं। मुलायम के इस बयान की राजनीतिक दलों एवं महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाली सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कड़ी निंदा की है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम ने यह भी कहा कि नए बलात्कार विरोधी कानून में बदलाव की जरूरत है ताकि इस कानून का गलत इस्तेमाल करने वालों को भी सजा मिल सके।

गौरतलब है कि मुंबई की एक अदालत ने नए कानून के प्रावधान का इस्तेमाल करते हुए हाल ही में बलात्कार के तीन ऐसे दोषियों को मौत की सजा सुनाई जिन्हें दो मामलों में कसूरवार पाया गया था।
 
शहर के जामा मस्जिद पार्क में गुरुवार को सपा प्रत्याशी डॉ. एसटी हसन के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने के लिए मुलायम सिंह यादव पहुंचे थे। भाषण खत्म करने के बाद मुलायम ने दोबारा माइक संभालकर बात शुरू की दलित एक्ट के दुरुपयोग से।

उन्होंने कहा कि ‘अगर कोई गाली देता है और आप थप्पड़ मार देते हैं तो उस मामले में आप पर दलित एक्ट लगा दिया जाता है। उन्होंने कहा कि दलित एक्ट का दुरुपयोग करके झूठी रिपोर्ट लिखाने वालों को सजा दी जाएगी। इस कानून के बहुत लोग परेशान हैं।

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, ‘मुंबई गैंगरेप में बेचारे तीन लड़कों को फांसी की सजा हुई, क्या रेप में फांसी दी जाएगी? भाई लड़के हैं गलती हो जाती है। ऐसे कानून को बदलने की कोशिश की जाएगी। झूठी रिपोर्ट लिखाने वालों को सजा दी जाएगी।’ 

कांग्रेस और भाजपा ने बलात्कार संबंधी बयान को लेकर समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की आलोचना करते हुए आज कहा कि उन्हें तत्काल माफी मांगनी चाहिए और अपने शब्द वापस लेने चाहिए।
      
कांग्रेस के नेता मीम अफजल ने कहा कि इतने वरिष्ठ नेता के बयान केवल आपत्तिजनक ही नहीं अपितु दु:खद और शर्मनाक भी हैं। मुलायम सिंह के बयान से पता चलता है कि उनके मन में महिलाओं के लिए कितना सम्मान है और वह महिलाओं की सुरक्षा के प्रति कितने गैर जिम्मेदार हैं।
      
अफजल ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह के मार्गदर्शन में सरकार चल रही है और इस प्रकार के बयानों से राज्य के युवकों के बीच गलत संदेश जा सकता है। कांग्रेस के नेता ने कहा कि मुलायम सिंह को अपने शब्द तत्काल वापस लेने चाहिए और माफी मांगनी चाहिए।
      
मुलायम सिंह ने मुंबई में दो सामूहिक बलात्कार के तीन दोषियों को पिछले सप्ताह मौत की सजा दिए जाने पर सवाल उठाते हुए कल कहा था, क्या बलात्कार के मामलों में फांसी की सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने मुरादाबाद में एक चुनावी रैली में कहा था, लड़के, लड़के हैं। गलती हो जाती है।

भाजपा ने भी मुलायम के इन बयानों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उनकी कड़ी आलोचना की है। भाजपा के नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि ये बयान अत्यंत शर्मनाक हैं और सपा प्रमुख को माफी मांगनी चाहिए। नकवी ने कहा कि सपा नेता ने एक संवेदनशील मामले पर राजनीति की है। देश नेताओं के इस प्रकार के रवैये को कभी स्वीकार नहीं करेगा।
     
सप्रा सुप्रीमो ने कहा था कि बलात्कार विरोधी नया कानून बदलने की आवश्यकता है ताकि इसका गलत इस्तेमाल करने वालों को सजा दी जा सके। भाजपा की एक अन्य नेता स्मृति ईरानी ने कहा कि मुलायम सिंह किसी भी कीमत पर केंद्र में सरकार बनाने नहीं जा रहे। उन्होंने कहा कि यदि वह उन लोगों (बलात्कारियों) में से किसी की मदद करना चाहते हैं तो वह अब ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि कांग्रेस ने विपक्ष में बैठने की तैयारी शुरू कर दी है।
     
अमेठी से लोकसभा चुनाव में भाजपा की उम्मीदवार स्मृति ने कहा कि मैं मुलायम सिंह से कहना चाहती हूं कि मेरे जैसी महिलाएं (बलात्कार विरोधी कानून में किसी भी संशोधन का) कड़ा विरोध करेंगी और हम ऐसा कभी नहीं होने देंगी।

दिल्ली में 16 दिसंबर को सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई पीडिता के माता-पिता ने भी मुलायम सिंह के बयानों पर कड़ी आपत्ति जताई है और लोगों से लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी को समर्थन नहीं देने की अपील की है। पीडिता के पिता ने कहा कि बलात्कार के मामले पर उन्होंने जो बयान दिए हैं और जिस निर्लज्जता से बयान दिए हैं, हमने उन्हें सुना है। उन्होंने कहा कि नेताओं के ऐसे बयानों से बलात्कारियों की हिम्मत बढती है और ये देश में बलात्कार के मामले बढने के लिए जिम्मेदार हैं।
     
दिल्ली में हुए सामूहिक बलात्कार की 23 वर्षीय पीडिम्ता ने 29 दिसंबर 2012 को सिंगापुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। उसके पिता ने कहा कि इस बयान ने स्पष्ट कर दिया है कि मुलायम सिंह को केवल सत्ता की चिंता है और उनके लिए महिलाओं की सुरक्षा का कोई महत्व नहीं है। यदि ऐसे विचार व्यक्त करने पर भी सपा चुनाव जीत जाती है तो यह दुर्भाग्यपूर्ण होगा।
     
लड़की की मां ने कहा कि लड़की का बलात्कार करने को एक गलती नहीं कहा जा सकता, यह एक अपराध है। ऐसा बयान देने वाले नेता को सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है।

आजम खां ने जो कहा सही कहा
जनसभा के दौरान सपा सुप्रीमो ने सूबे के नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां का भी बचाव किया। उन्होंने कहा कि देश को आजादी दिलाने में अब्दुल हमीद ने बहुत बड़ा योगदान दिया है। मुसलमानों का योगदान किसी से छिपा नहीं है। आजम खां ने जो भी कहा है वह सही कहा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:मुलायम का आपत्तिजनक बयान, रेप के लिए फांसी गलत