DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूलों में अब बच्चे बजाएंगे ढोल-नगाड़े

प्राईवेट स्कूलों की तरह अब सरकारी स्कूलों में भी सांस्कृतिक आयोजन के लिए लाउडस्पीकर, ढ़ोल, नगाड़े, करताल और लाउडस्पीकर बजेंगे जिसकी धुन पर बच्चे नाचते गाते नजर आएंगे। इन इन वाद्य यंत्रों के सहार बच्चे न सिर्फ सुरीली धुन में प्रार्थना करते नजर आएंगे,बल्कि तानसेन की तरह सुरीली धुन भी बिखेरंगे।ड्ढr ड्ढr बिहार शिक्षा परियोजना ने विद्यालय पुरस्कार योजना के तहत चयनित जिले के 120 विद्यालयों के लिए राशि भी जारी कर दी है। इन स्कूलों को चयन बेहतर शिक्षा के साथ उत्कृष्ट प्रबंधों के आधार पर किया गया है जिसमें पुरस्कारस्वरूप दस हाार रुपये दिया जाएगा। इन पैसों से विद्यालय शिक्षा समिति के माध्यम से बैंड, लाउडस्पीकर, ढ़ोल,नगाड़े और महापुरुषों की तस्वीरें खरीदी जाएंगी।ड्ढr ड्ढr विद्यालय पुरस्कार योजना के तहत जिले के जिन स्कूलों को चयन किया गया है इनमें मुशहरी प्रखंड में दस, मड़वन में चार, कांटी में सात, मोतीपुर में दस, साहेबगंज में सात, पारू में दस, सरैया में दस, कुढ़नी में दस, सकरा में सात, मुरौल में चार, बंदरा में पांच, बोचहां में सात, गायघाट में नौ, कटरा में छह, औराई में छह और मीनापुर में आठ स्कूलों शामिल हैं।ड्ढr ड्ढr प्रभारी शंकर कुमार ने बताया कि पांच दिनों के भीतर सभी चयनित स्कूलों को पैसा उपलब्ध करा दिया जाएगा। सामग्री की खरीद विद्यालय शिक्षा समिति की बैठक में तय होगी। उन्होंने बताया कि स्कूलों को एक माह के भीतर सामग्री की खरीददारी कर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्कूलों में अब बच्चे बजाएंगे ढोल-नगाड़े