अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उदय शंकर को सोनुप्रभा सम्मान

देशप्रिय क्लब एवं लाइब्रेरी में सात जून को 24वें दो दिनी नाट्योत्सव के पहले दिन क्लब की महिला शाखा द्वारा बांग्ला नाटक तारापदो एंड कंपनी का मंचन किया गया। सांवली गीता की शादी नहीं होने के कारण परिवार के लोग चिंतित हैं। उधर स्नातक तारापदो रोगार के कई उपाय खोज निकालता है, लेकिन धन की कमी के कारण व्यवसाय में सफल नहीं हो पाता है। शादी का विज्ञापन देख कर लड़की देखने के बहाने गीता के घर पहुंचता है और उसकी सह्रदयता से मुग्ध होकर उससे शादी कर लेता है। व्यंग्यकार गौतम रे की नाटक का निर्देशन किया प्रणति चौधरी ने।ड्ढr दूसरे नाटक चेतना के अंकुर के रचनाकार थे डॉ खगेंद्र ठाकुर और निर्देशित किया अजय मलकानी ने। नाट्योत्सव के पहले चरण में स्व उदय शंकर दास को बांग्ला नाट्यजगत में उल्लेखनीय योगदान के लिए मरणोपरांत सोनुप्रभा सम्मान दिया गया। मुख्य अतिथि थे दूरदर्शन के कार्यक्रम अधिशासी डॉ बीएन सिंह।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उदय शंकर को सोनुप्रभा सम्मान