अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वात के लिए इस्लामी कानून पाक संसद में पारित

पाक संसद ने विवादास्पद निजामेअद्ल प्रस्ताव को सोमवार को सर्वसम्मति से पारित कर दिया है। जिससे स्वात घाटी में शरीयत कानून लागू करने का रास्ता साफ हो गया है। इससे पहले स्वात घाटी मं तालिबान क साथ विवादास्पद शांति समझौत पर बढ़त अंतरराष्ट्रीय दबाव क मद्दनजर राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी न इस संसद मं पश करन का फैसला करक अपनी जिम्मदारी को संसद पर डाल दिया। समाचार पत्र ‘द न्यूज’ की रिपोर्ट मं सोमवार को कहा गया कि जरदारी भविष्य मं शांति समझौत क किसी भी विपरीत प्रभाव की जिम्मदारी लन स बचना चाहत थे, अब किसी भी परिणाम क लिए संसद जिम्मदार होगी। जरदारी न जब उत्तर पश्चिम सीमांत प्रांत की सरकार को तालिबान स संबंधित मौलाना सूफी मुहम्मद क साथ समझौता करन क लिए आग बढ़न को कहा था, तब संसद को भरोस मं नहीं लिया गया था। अब जरदारी न कहा कि वह क्षेत्र मं शांति स्थापित हुए बिना समझौत को मंजूरी नहीं दंग। इस कदम स जरदारी न प्रधानमंत्री गिलानी और नवाज शरीफ को भी मुश्किल मं डाल दिया है। यदि वह शांति समझौत का विरोध करत हैं तो कट्टरपंथी ताकतों क गुस्स का निशाना बन सकत हैं और यदि समर्थन किया तो उनका अमरिकी समर्थन स हाथ धोना पड़ सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्वात के लिए इस्लामी कानून पाक संसद में पारित