DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजद ने चिंतन शिविरकी तैयारी शुरू की

राष्ट्रीय जनता दल ने अपने चिंतन शिविर की तैयारी शुरू कर दी है। इस शिविर के साथ ही राजद बिहार में लोकसभा चुनाव की तैयारी भी शुरू कर देगा। रोहतास जिले के रामगढ़ में 14 और 15 जून को चिंतन शिविर होगा। रामगढ़ राजद के थिंक टैंक और वरिष्ठ विधायक जगदानंद सिंह का चुनाव क्षेत्र है।ड्ढr ड्ढr इस शिविर के साथ-साथ जिलों में चल रहा पंचायत अध्यक्षों का सम्मेलन भी जारी रहेगा।ोून को जमुई जिले में सम्मेलन है जिसमें पार्टी के सभी प्रदेश नेता भाग लेंगे। 1ाुलाई तक सभी जिलों में इस सम्मेलन के संपन्न होने के बाद राजद विभिन्न मसलों पर आन्दोलन शुरू करगा और इसके साथ ही लोकसभा चुनाव का अभियान भी तेज कर दिया जाएगा। इस चिंतन शिविर में यूपीए सरकार की सफलता, राज्य सरकार की विफलता और पार्टी की आगे की रणनीति तय की जाएगी। इसमें लगभग पांच सौ लोग भाग लेंगे। इनमें पार्टी के पूर्व और मौजूदा सांसद, विधायक और विधान पार्षद के अलावा प्रदेश पदाधिकारी और सभी जिलाध्यक्ष शामिल रहेंगे। राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष रल मंत्री लालू प्रसाद स्वयं इस शिविर का नेतृत्व करंगे। पार्टी के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार संभावित लोकसभा चुनाव को देखते हुए इस शिविर को अत्यंत महत्वपूर्ण माना जा रहा है और इसीलिए इसमें कार्यकर्ताओं की भीड़ नहीं जुटाई जा रही है। इसमें केवल वही नेता शामिल होंगे जिनपर लोकसभा चुनाव की जिम्मेवारी दी जा सकती है। जनप्रतिनिधि असहाय: उपेन्दड्र्ढr पटना (हि.ब्यू.)। राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने आरोप लगाया है कि सूबे में जनप्रतिनिधि असहाय हो गए हैं और सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ताओं को गलत तरीके से मुकदमों में फंसाया जा रहा है। ‘कानून अपना काम कर रहा है’ के जुमले के बीच पूर राज्य में अराजक स्थिति पैदा कर दी गई है। अधिकारियों की निरंकुशता के कारण गरीबों की परशानी बढ़ गई है। श्री कुशवाहा पार्टी द्वारा 3 जून से चलाए जा रहे भ्रष्टाचार विरोधी पखवारा के क्रम में रविवार को संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इसका समापन 20 जून को पटना में राज्यस्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन से होगा। इस सम्मेलन के जरिए आम जनता को भ्रष्टाचार के विरोध में गोलबंद किया जाएगा और संघर्ष की अगली रूपरखा तय की जाएगी।ड्ढr ड्ढr श्री कुशवाहा ने कहा कि पूर राज्य में गरीबों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की राशि का जमकर बंदरबांट हो रहा है और केन्द्र द्वारा दी जा रही राशि का भारी पैमाने पर दुरुपयोग किया जा रहा है। किसानों की योजनाएं कागजों तक सिमट गई है और उन्हें तरह-तरह से परशान किया जा रहा है। गांवों में लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है और राज्य सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है। अधिकारियों व पुलिस प्रशासन द्वारा जनप्रतिनिधियों के साथ र्दुव्‍यवहार की घटनाओं में लगातार वृद्धि होती जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: राजद ने चिंतन शिविरकी तैयारी शुरू की