DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रामीणों को 25 फीसदी ही स्वास्थ्य सुविधाएं

पूर्व केन्द्रीय मंत्री सह अभिनेता शत्रुघ्न सिंहा ने कहा कि 36 से 40 परिवारों के पास जो पैसा है, वह भारत के बजट से बढ़कर है। आज राजनीतिक पार्टियां मंदिर मसिद के लिए आपस में झगड़ रही हैं जबकि सही मायने में डाक्टर ही मानव मंदिर का निर्माण कर रहे हैं। श्री सिंहा रविवार को महावीर कैंसर संस्थान में कैंसर के इलाज में ‘अल्टरनेटिव मेडिसीन’ की भूमिका पर एक सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत की 75 प्रतिशत की आबादी गांव में रहती है, जिनको मात्र 25 प्रतिशत स्वास्थ्य सुविधायें मिल पा रही हैं। ठीक इसके विपरीत 25 प्रतिशत शहरी को 75 प्रतिशत स्वास्थ्य सुविधा मिल रही है।ड्ढr ड्ढr पूर्व मंत्री ने कहा कि देश ने काफी तरक्की की है, लेकिन अभी भी यहां भूख, गरीबी, बेरोगारी, भ्रष्टाचार जसी समस्यायें हैं और आज देश को शिक्षा एवं स्वास्थ्य में प्राथमिकता की जरूरत है। उन्होंने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि जब वे स्वास्थ्य मंत्री थे तभी नकली दवाओं को पकड़ा था, परंतु आजतक उनपर कोई कार्रवाई नहीं हुई। सेमिनार का शुभारंभ संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया गया। समारोह को संबोधित करते हुए संस्थान के आचार्य किशोर कुणाल ने संस्थान के क्रिया-कलापों पर विस्तृत रूप से चर्चा की। उन्होंने कहा कि भारत वर्ष में इस तरह के सेमिनार पहली बार आयोजित किये गये हैं।ड्ढr संस्थान के निदेशक डा. जितेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि महावीर कैंसर संस्थान का मुख्य उद्देश्य कैंसर मुफ्त समाज का निर्माण है। चाहे वह ऐलोपैथी, आयुव्रेद, यूनानी ही क्यों न हो। सेमिनार को डा. एम.के. साहनी, तौहीद किब्रिया, डा. देवानंद सिंह, डा. सच्चिदानंद पांडे, न्यायमूर्ति प्रेम शंकर सहाय, न्यायमूर्ति उदय सिंहा ने भी संबोधित किया। अतिथियों का स्वागत अंगवस्त्र प्रदान कर किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ग्रामीणों को 25 फीसदी ही स्वास्थ्य सुविधाएं