DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीयों का एल-1 वीजा आवदेन ज्यादा होता है खारिज

भारतीयों का एल-1 वीजा आवदेन ज्यादा होता है खारिज

भारतीयों का एल-1 वीजा अन्य देशों के नागरिकों के मुकाबले ज्यादा खारिज होता है। यह बात एक अमेरिकी संस्थान ने अपनी रिपोर्ट में कही है।

नेशनल फाउंडेशन फॉर अमेरिकन पॉलिसी ने इस रिपोर्ट में कहा है कि ऐसा लगता है कि इंकार की दर में वृद्धि मुख्य रूप से भारतीय नागरिकों को लेकर केंद्रित है। अमेरिका नागरिकता और आव्रजन सेवा ने पिछले नौ वर्ष (2000-08) के दौरान भारतीयों के जितने एल-1 वीजा आवेदन (1,341) खारिज किए थे। उससे कहीं अधिक सिर्फ वित्त वर्ष 2009 में खारिज (1,640) किये गए।

एल-1बी ऐसे लोगों को दिया जाता है जिसमें व्यक्ति यहां बसने के लिए नहीं आता। यह गैर आव्रजन वीजा है जिसके तहत कंपनियों को उन कर्मचारियों को कम से कम एक साल तक के लिए अमेरिका भेजने की अनुमति होती है जिनके पास अमेरिका में कम से कम पांच साल तक काम करने का विशेष ज्ञान है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2009 में भारतीयों के एल-1बी आवेदनों को खारिज करने की दर बढ़कर 22.5 प्रतिशत हो गई जबकि नियम पहले के ही थे। इसके विपरीत उसी वर्ष कनाडा, ब्रिटेन चीन और अन्य देशों के मामले में आवेदन खारिज करने की दर 2.9 से 5.9 प्रतिशत के बीच रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारतीयों का एल-1 वीजा आवदेन ज्यादा होता है खारिज