DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कच्चे तेल केचच दामों में गिरावट

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में नरमी का रुख रहा। शुक्रवार के 13डॉलर के रिकार्ड भाव की तुलना में इसकी कीमतों में दो डॉलर से अधिक की गिरावट दर्ज की गई। यूएस लाइट क्रूड का दाम जुलाई डिलीवरी के लिए 1.64 डॉलर घट कर 136.0 डॉलर और लंदन ब्रैंट वायदा 2.0डॉलर की गिरावट 135.60 डॉलर प्रति बैरल बोला गया। गत शुक्रवार को तेल के दामों में 11 डॉलर की तेजी देखी गई थी, जिससे तेल का भाव उछल कर 13डॉलर प्रति बैरल से ऊपर हो गया था। निवेशक बैंक मोर्गन स्टेनले ने भविष्यवाणी की थी कि चार जुलाई तक कच्चे तेल का दाम 150 बैरल को छू सकता है और अमेरिकी डॉलर में गिरावट जारी रह सकती है। गोल्डमैन सेच के कमोडिटी रिसर्च के प्रमुख जेफ्री क्यूरी ने मोर्गन स्टैनले की इस बात की पुष्टि करते हुए कहा था कि तेल की मांग में कमी के साथ-साथ आपूर्ति भी कम रह सकती हैं। उन्होंने इस बात की संभावना भी जताई थी कि गर्मियों में तेल का दाम डेढ़ सौ डॉलर प्रति बैरल पहुंच सकता है।ड्ढr मलेशिया की राजधानी कुआललम्पुर से प्राप्त समाचार के अनुसार वहां एक सम्मेलन में बीपी कंपनी के सीईओ ने कहा कि तेल के दाम अस्थाई हैं क्योंकि बाजार में आपूर्ति ठीक से नहीं हो रही है और जो देश आपूर्तिकर्ता हैं उनमें भी नई आपूर्ति के लिए निवेश भी ठीक से नहीं हो रहा। एक अन्य कंपनी के प्रमुख ने कहा कि एक ऐसे बाजार में जो ठीक से काम कर रहा है, वहां मूल्य स्थिर होना चाहिए और अगर भाव ज्यादा है तो इससे संकेत मिलता है कि आपूर्ति ठीक से नहीं हो रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कच्चे तेल केचच दामों में गिरावट