अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि रोड मैप का पहला चरण सौ फीसदी सफल

अगर कोई सरकारी योजना शत प्रतिशत जमीन पर उतार दी जाये तो यह आठवां आश्चर्य माना जाता है, लेकिन इसे सच कर दिखाया है नीतीश कुमार की सरकार में अधिकारियों ने। कृषि रोड मैप के पहले कार्यक्रम का पहला चरण शत प्रतिशत सफल रहा। मुख्यमंत्री त्वरित बीज विस्तार योजना के तहत बीज के पैकेट राज्य के सभी चयनित किसानों के हाथों में पहुंच गये।ड्ढr ड्ढr कृषि मंत्री नागमणि ने उक्त बातें सभी जिलों में कार्यरत ‘आत्मा’ के परियोजना निदेशक और परियोजना उप निदेशकों को संबोधित करते हुए कही। वे बामेति द्वारा आयोजित एक ट्रेनिंग कार्यक्रम के बाद सोमवार को जिले के अधिकारियों से योजनाओं की जानकारी ले रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकारियों से काम लेने की उनकी शैली मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की तरह ही कुछ अलग है। किसी भी अधिकारी को धमका कर उससे काम नहीं लिया जा सकता। लेकिन विभाग में किसी को गलत आचरण की छूट भी नहीं दी जायेगी। ‘रिवार्ड और पनिशमेंट’ ही सत्ता संचालन का मूल मंत्र होता है।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कृषि को उद्योग के रूप में विकसित करने की इच्छा रखते हैं और राज्य के विकास के लिए यही जरूरी भी है। अब इसका पूरा दारोमदार अधिकारियों पर ही है। इस अवसर पर राज्य किसान आयोग के अध्यक्ष रामाधार ने कहा कि विकास की आत्मा कृषि है और कृषि विकास की आत्मा है जिलों में काम करने वाली ‘आत्मा’। कृषि से संबद्ध सभी विभागों के समन्वय का काम भी उन्हीं के पास है और इसके बिना विकास की कल्पना संभव नहीं है। ऐसे में आत्मा के अधिकारियों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। समारोह की अध्यक्षता बामेति के निदेशक डा. आर के सोहाने ने की और अतिथियों का स्वागत किया दीप नारायण सहकारी प्रबंध संस्थान के निदेशक बी के सिन्हा ने।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कृषि रोड मैप का पहला चरण सौ फीसदी सफल