DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ की पहले जसी स्थिति से बचें: मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ पूर्व तैयारियों की समीक्षा के क्रम में अधिकारियों को गत वर्ष की स्थिति से बचने की ताकीद की है। उन्होंने बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यों की नियमित मॉनीटरिंग करने और उसकी अद्यतन स्थिति की समय-समय पर समीक्षा करने को भी कहा है। बाढ़ के दौरान प्राप्त शिकायतों के त्वरित निष्पादन और कठिनाइयों का विस्तृत ब्यौरा कागज पर तैयार करने का भी निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने जल संसाधन विभाग के बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यो पर संतोष व्यक्त किया और तटबंधों को मजबूत बनाने की कार्ययोजना पर और तेजी से काम करने का निर्देश दिया।ड्ढr ड्ढr उन्होंने नई तकनीक से सरकार को अवगत कराने की भी नसीहत दी। इस वर्ष बाढ़ सुरक्षात्मक कार्यो पर 150 करोड़ रुपए से अधिक खर्च होने हैं। बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि सरकार बाढ़ की किसी भी प्रतिकूल परिस्थिति से लड़ने को तैयार है। अलबत्ता उन्होंने मानवीय भूल से तटबंध टूटने की स्थिति में वरीय अधिकारियों पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी और कहा कि जिम्मेवार लोग किसी सूरत में नहीं बचेंगे।ड्ढr हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि नाहक किसी को बलि का बकरा नहीं बनाया जाएगा। उन्होंने अभियंताओं व अधिकारियों के प्रति मौजूदा तैयारियों को देखते हुए विश्वास व्यक्त किया और कहा कि विभाग अपने लक्ष्यों को आसानी से प्राप्त कर लेगा। उन्होंने बताया कि गत वर्ष 32 स्थानों पर तटबंध टूटे थे, जहां 0 फीसदी काम पूरा कर लिया गया है। 15 जून के पूर्व सभी कार्य पूर हो जाने का भी दावा उन्होंने किया।ड्ढr ड्ढr समीक्षा बैठक में मुख्य सचिव आर.जे.एम. पिल्लै, विकास आयुक्त एस.विजयराघवन, वित्त विभाग के प्रधान सचिव नवीन कुमार, जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव अजय नायक, अभियंता प्रमुख देवी रजक, आक्षम राय के अलावा विभाग के सभी आला अधिकारी व अभियंता मौजूद थे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाढ़ की पहले जसी स्थिति से बचें: मुख्यमंत्री