DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उचित मजदूरी को श्रमिक चेतना सैनिक बहाल होंगे

ग्रामीण एवं असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को उचित मजदूरी मिले इसके लिए श्रम संसाधन विभाग प्रत्येक जिला मुख्यालय में एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन करगा। शिविर में प्रत्येक पंचायत से एक-एक मजदूर का चयन किया जाएगा। मजदूरों के चयन में अनुसूचित जाति एवं महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। प्रत्येक पंचायत से प्रशिक्षण हेतु चयनित मजदूर श्रमिक चेतना सैनिक कहलाएंगे जिनका मुख्य कार्य ग्रामीण श्रमिक चेतना केन्द्र स्थापित कर श्रमिकों को न्यूनतम मजदूरी एवं अन्य श्रम अधिनियमों की जानकारी देना होगा।ड्ढr ड्ढr प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने वाले चयनित श्रमिकों को एक दिन की मजदूरी, दिन का भोजन, कुछ मार्ग व्यय तथा श्रम अधिनियमों एवं अन्य योजनाओं की महत्वपूर्ण जानकारी दी जाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार सूबे के कई ऐसे मजदूर हैं जिन्हें श्रम संसाधन विभाग की उचित जानकारी नहीं है जिसके कारण उन्हें उचित मजदूरी नहीं मिल पाती है। इसी पेरशानी को दूर करने के लिए सरकार जिला मुख्यालय स्तर पर शिविर का आयोजन करने जा रही है। यह शिविर 12 जून से शुरू होगा। शिविर भोजपुर, कैमूर, बांका, सुपौल, अररिया, लखीसराय, वैशाली जिले में 21 जून को एवं मधेपुरा जिला में 28 जून को आयोजित किया जाएगा। प्रस्तावित शिविर का उद्घाटन श्रम संसाधन विभाग के मंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, प्रधानसचिव, श्रमायुक्त, जिला पदाधिकारी एवं प्रमंडलीय पदाधिकारी द्वारा किया जाएगा। श्रम संसाधन विभाग इस प्रशिक्षण शिविर को श्रम अधिकार दिवस के रूप में मनाने जा रही है। प्रत्येक पंचायत से प्रशिक्षण हेतु चयनीत मजदूर श्रम चेतना सैनिक कहलाएंगे जिसका मुख्य कार्य ग्रामीण श्रमिक चेतना केन्द्र पर श्रम अधिनियम की जानकारी देंगे। विभाग द्वारा भी समय-समय पर आवश्यक सूचनाएं ग्रामीण सैनिक चेतना केन्द्र को उपलब्ध कराएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उचित मजदूरी को श्रमिक चेतना सैनिक बहाल होंगे