अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में समय से पहले दस्तक देगा मानसून

दिल्लीवासियों के लिए मई का महीना तो बढ़िया गुजरा और उन्हें यादा गर्मी नहीं झेलनी पड़ी और कमोवेश जून की शुरुआत भी अच्छी रही। अब खुशखबरी यह है कि मानसून समय से एक सप्ताह पहले ही आ रहा है। मौसम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मौसम संबंधी उनके एक दो मॉडलों से यह पता चलता है कि पहली मानसूनी बारिश में शहर के भीगने के इसी हफ्ते आसार हैं। हांलाकि गणना अमूमन यह बताती है कि मानसून निर्धारित समय के थोड़े दिन बाद आता है, लेकिन इस बार यह सात दिन पहले ही दस्तक दे सकती है। मौसम विभाग ने संभावना व्यक्त की है कि राजधानी दिल्ली ही नहीं समूचा उत्तर भारत 13 जून से ही मानसून की जद में आ सकता है और तेज बरसात से यह भी संकेत मिल सकता है कि इस बार मानसून में जोरदार बारिश होगी। देश के विभिन्न भागों में भी दक्षिण पश्चिम मानसून के गति पकड़ने से भी यही अंदाजा लगाया जा रहा है कि मानसून अपने तय समय से एक सप्ताह पहले ही आ सकता है। मौसम विभाग के सूत्रों ने बताया कि जब से मानसून केरल तट पर निर्धारित समय से पूर्व आया है तब से ही दक्षिण पश्चिम मानसून हर जगह समय से पहले ही अपनी उपस्थिति दर्शा रहा है। मिसाल के तौर पर गुजरात में सामान्यतया मानसून 14 जून को आता है लेकिन इस बार इसने मंगलवार को ही अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी थी। मौसम विभाग के अनुसार इससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि अगले 48 घंटो के दौरान मानसून मध्य भारत और उत्तर भारत या मध्य प्रदेश या उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में आ सकता है। जबकि छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, बिहार, पूर्वी मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों, पूर्वी उत्तरप्रदेश के इलाकों में भी अगले दो तीन दिनों में मानसून दस्तक दे देगा। उत्तर प्रदेश के मानसून की जद में आ जाने से यह कहा जा सकता है कि मानसूनी काले बादलों की छाया और काली घटाआें में इस ऐतिहासिक शहर के भीगने में कुछ ही वक्त बाकी रह गया है। ध्यान देने योग्य बात यह है कि यह शहर सूरज के सिर पर चमकने वाले महीने मई के दौरान रिकार्ड 165 मिलीमीटर बारिश देख चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दिल्ली में समय से पहले दस्तक देगा मानसून