अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीएमसीएच: एक डाक्टर पर दो-चार बेड

पीएमसीएच में इलाज न करने का हिडेन एजेंडा। एक डॉक्टर पर दो-चार बेड। इस पर भी मरीजों का समय पर इलाज करना दूभर बना है। पीएमसीएच में प्रशासनिक विफलता के कारण ऐसी व्यवस्था की गयी है जिससे सिर्फ एक यूनिट के उपर ही सभी बोझ रहे। शेष यूनिट के उपर कार्य का बोझ नहीं होता। अभी तक परम्परा चला दी गयी है कि एक दिन में एक ही यूनिट के डॉक्टर ओपीडी सहित 24 घंटें की इमरजेंसी सेवा संभालेंगे। यही वह पेंच है जिससे अस्पताल में अराजकता का माहौल बनकर तैयार हो गया। ऐसी व्यवस्था में भी वर्षो से यहां कोई मौलिक शोध नहीं हुआ।ड्ढr ड्ढr पीएमसीएच में सर्वाधिक झंझट केन्द्रीय इमरजेंसी विभाग और शिशु विभाग में होता है। इनकी जड़ में खुद प्रशासनिक विफलता छिपी है। शिशु विभाग में 264 बेड स्वीकृत है। प्रशिक्षण के दौरान इलाज के लिए इस विभाग में पांच यूनिट की स्थापना की गयी है। यूनिट का प्रमुख प्राध्यापकसह प्राध्यपक होता है जिसके नीचे एक सहायक प्राध्यापक, एक-दो सीनियर रजीडेंट, 8-10 पीजी और दो इन्टर्नशिप के डॉक्टर होते हैं। अर्थात 12-14 डॉक्टरों द्वारा अस्पताल में सिर्फ 52 मरीजों के इलाज का बोझ है। इस बोझ से अस्पताल के डॉक्टर इसलिए हांफते नजर आते हैं कि काम का बंटवारा ही गलत ढंग से किया गया है। इस बात को कई बार अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा ही उठाया जा चुका है। काम का बंटवारा सहीं तरीके से होना चाहिए। इसमें चूंकि सबको लाभ है इसलिए अधिकांश यूनिट हेड इस परिवर्तन का विरोध करते हैं।ड्ढr मरीजों के इलाज को लेकर होनेवाली परशानी की दूसरी वजह यह है कि एक ही यूनिट पर एक दिन का सारा बोझ रहता है जबकि शेष अन्य यूनिट के चिकित्सक अस्पताल तो आते हैं लेकिन आधे घंटे के राउण्ड के बाद उनके पास कोई बोझ नहीं रहता। ओपीडी के दिन यूनिट हेड इमरजेंसी की कमान तीन शिफ्टों में बांटकर जूनियर डॉक्टरों पर डाल देता। ऐसे में पैदा होती है डॉक्टरों की मैन मेड क्राइसिस। अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि इसे सुचारु रूप देने के लिए 24 घंटे में दो यूनिट से कार्य लिया जाना चाहिए। एक यूनिट ओपीडी तो दूसरा यूनिट इमरजेंसी संभाले। यही स्थिति अस्पताल के अधिकांश प्रमुख विभागों में बनी हुई है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पीएमसीएच: एक डाक्टर पर दो-चार बेड