अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नास्तिक बनाती है ज्यादा बुद्धिमत्ता!

अगर आप दूसरों से यादा बुद्धिमान हैं तो क्या आप नास्तिक भी हैं? ब्रिटिश वैज्ञानिकों के एक ताजा शोध के अनुसार यादा आई-क्यू वाले व्यक्ित आस्तिकता से दूर होते जाते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि वह अपने ज्ञान के इस्तेमाल से अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं और उन्हें भगवान की जरूरत नहीं है। शोधकर्ता रिचर्ड लिन का मानना है कि बुद्धिमानी नास्तिकता की आेर ले जाती है। हालांकि रिचर्ड लिन के शोध हमेशा से विवादों में रहे हैं। इससे पहले उन्होंने अपने शोध में कहा था कि बुद्धिमत्ता या आई-क्यू नस्ल पर आधारित होती हैं। उनके शोध के मुताबिक जर्मनी के लोग दूसरे यूरोपीय देशों की अपेक्षा अधिक चतुर होते हैं। इंटेलिजेंस जर्नल में प्रकाशित लिन के शोध में कहा गया है कि प्राइमरी स्कूल में जाने वाले बच्चे ईश्वर में यकीन करते हैं लेकिन जैसे-जैसे वह बड़े होते हैं उनका विश्वास कम होने लगता है और कई तो पक्के नास्तिक बन जाते हैं। लिन का तो यहां तक कहना है कि यादातर बुद्धिजीवी ईश्वर में यकीन नहीं रखते जबकि सामान्य लोग या आबादी का बड़ा हिस्सा आस्तिक होता है। लिन इसे पूरी तरह बुद्धिमत्ता का मामला मानते हैं। उनका कहना है कि जिन व्यक्ितयों काोितना ज्यादा आई-क्यू होता है वह उतने ही बड़े नास्तिक होते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नास्तिक बनाती है ज्यादा बुद्धिमत्ता!