अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

औद्योगिकचच उत्पादन की सुस्त रफ्तार

नए वित्त वर्ष की शुरुआत औद्योगिक उत्पादन के लिए कुछ राहत के साथ हुई है। अप्रैल माह में इसमें हालांकि 7 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई, परंतु पिछले साल इसी अवधि के मुकाबले यह धीमी रही है। मार्च 2008 में औद्योगिक उत्पादन सूचकांक तीन प्रतिशत रहा, जबकि अप्रैल में बढ़कर यह 7 फीसदी हो गया। पिछले साल अप्रैल में यह 11.3 फीसदी पर था, लेकिन इस साल धीमा पड़कर 7.0 प्रतिशत रह गया है। केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन द्वारा जारी औद्योगिक उत्पादन सूचकांक के त्वरित अनुमानित आंकडों के मुताबिक 2007-08 में इसमें 8.3 प्रतिशत बढ़त रही, लेकिन इससे पिछले साल में इसमें 11.6 प्रतिशत की द्विअंकीय वृद्धि दर्ज की गई थी। इस साल की शुरुआत पर अप्रैल में खनन और विनिर्माण यानी कारखानों में होने वाले उत्पादन कारोबार में क्रमश: 8.6 और 7.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई, लेकिन विद्युत कारोबार के क्षेत्र में यह मात्र 1.4 प्रतिशत ही रही। वर्ष 2006-07 के मुकाबले 2007-08 में इन तीनों क्षेत्रों के संशोधित आंकडों में खनन क्षेत्र की वृद्धि 5.1 प्रतिशत, विनिर्माण क्षेत्र की 8.7 और विद्युत क्षेत्र की 6.4 प्रतिशत रही। सांख्यिकी संगठन के त्वरित अनुमान के मुताबिक अप्रैल में 17 उद्योग समूहों में से 14 में सकारात्मक वृद्धि हुई। तंबाकू और संबंधित उत्पादों में इस दौरान 30.7 प्रतिशत की सर्वोच्च वृद्धि दर्ज की गई। इसके बाद बुनियादी रसायन और रासायनिक उत्पादों में 15.4 प्रतिशत, परिवहन कलपुजोर्ं और उपकरणों की 11.4 प्रतिशत तक वृद्धि रही। इसके विपरीत सूत को छोड़कर अन्य पटसन और अन्य फाइबर कपड़ों में प्रतिशत, खाद्य उत्पादों में 6.3 और कपड़ा उत्पाद में 2.0 प्रतिशत कीड्ढr गिरावट रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: औद्योगिकचच उत्पादन की सुस्त रफ्तार